रविवार, 31 अक्तूबर 2010

अथ मुई लिपस्टिक कथा...

प्यार कर लिया तो क्या, प्यार है ख़ता नहीं...
(यहां क्लिक करें तो यूट्यूब पर वीडियो भी उपलब्ध है..)

प्रथम अध्याय

आईआईटी रूड़की में एक कार्यक्रम के दौरान इंजीनियरिंग के कुछ छात्रों ने अचानक अनोखी प्रतियोगिता रख दी। लड़कों को अपने होठों में लिपस्टिक दबाकर लड़कियों के होठों पर मलनी थी। लड़कों ने ऐसा किया, लड़कियों ने भी भरपूर साथ दिया...मगर लिपस्टिक मलने से मीडिया वाले लाल हो गए। उनके पास कैमरे थे तो वीडियो भी आ गया। वीडियो आया तो टीवी चैनल्स पर ख़बर चलने लगी। किसी चैनल ने कहा कि ये अनोखी प्रतियोगिता थी तो किसी ने होठों से छू लो तुम जैसे आकर्षक टाइटल के साथ तस्वीरें दिखानी जारी रखी। कुछ चैनल्स ऐसे थे जिन्हें लड़कों के लिपस्टिक लगाने से भारतीय संस्कृति को ख़तरा महसूस होने लगा। उन्हें हर दिन भारतीय संस्कृति घोर ख़तरे में नज़र आती है।

दूसरा अध्याय

उन्होंने भारतीय संस्कृति को बचाने का अभियान छेड़ दिया। एक से बढ़कर एक संत-महात्मा-मौलवियों को जुटाकर विमर्श शुरू हो गया कि भई, ये तो घोर पाप है। ये कौन-सी इंजीनियरिंग है। मतलब, ये तो सरासर शिक्षा जगत को शर्मसार कर देने वाली घटना है। इन छात्रों पर कार्रवाई अब तक क्यूं नहीं हुई। इनके मां-बाप को बुलाया जाए। उनसे पूछा जाए कि क्या संस्कार दिए अपनी औलादों को। भई, लिपस्टिक मलना इंजीनियरिंग के कोर्स का हिस्सा तो है नहीं, फिर क्यूं हुआ ये सब? इंजीनियरिंग वाले ‘बच्चे’ तो दिन-रात एक कर पढ़ाई करते हैं और तब जाकर आईआईटी में एडमिशन पाते हैं। उन्हें लड़कियों के होठों पर लिपस्टिक मलना किसने सिखा दिया। ये तो कोर्स करीकुलम के बाहर की बात है। इस पर तो संस्थान के निदेशक को सस्पेंड कर देना चाहिए। उन्हें शो कॉज़ दीजिए कि आईआईटी में लिपस्टिक आई तो आई कैसे। क्या ये सरकारी फंड का दुरुपयोग नहीं है।

तीसरा अध्याय

लिपस्टिक कांड पर देश-दुनिया के बुद्धिजीवी एक-दूसरे से मुंहलगी में व्यस्त हो गए हैं। डिबेट्स, सेमिनार आयोजित हो रहे हैं। लिपस्टिक को राष्ट्रीय आपदा घोषित किए जाने की पैरवी की जा रही है। जहां कहीं लिपस्टिक दिखाई दे रही है, माननीय बुद्धूजीवी (बुद्धू बक्से के बुद्धिजीवी) लोगों से मुंह ढंककर बच निकलने की अपील कर रहे हैं। होठों से जुड़े तमाम गानों पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया गया है ताकि युवा पीढ़ी इनके उकसावे में ना आए। महान भारतीय परंपरा का निर्वहन करते हुए सरकार ने एक जांच कमेटी गठित कर दी है जो ये पता लगाएगी कि आखिर 19-20 साल के बच्चों में लिपस्टिक लगाने का शौक कैसे पनपा। इस कमेटी में उन माननीय बुद्धूजीवियों को विशेष तौर पर शामिल किया जा रहा जो सेक्स विषयों पर डेस्क से ही बेहतरीन कार्यक्रम बनाने में सिद्धहस्त हैं। इसके अलावा महिला संगठनों को भी इस कमेटी से दूर ही रखा गया है क्योंकि उन्हें लिपस्टिक से विशेष लगाव है और सरकार को डर है कि जांच के दौरान आईआईटी के लड़के कुछ भी कर सकते हैं।

चौथा अध्याय

बिहार और झारखंड के कई ज़िलों में सरकार ने भोजपुरी गीतों पर बैन लगाना शुरू कर दिया है। सरकार की शिकायत है कि वहां के भोजपुरी गानों में होंठ लाली, लिपस्टिक, और शरीर के बाक़ी अंगों पर बहुत कुछ लिखा-सुना जा रहा है। जैसे ये गाना देखिए-

जब लगावे लू लिपस्टिक, त हिले सारा आरा डिस्टिक (डिस्ट्रिक्ट यानी ज़िला)
कमरिया करे लपालप, लॉलीपप लागे लू....

ऐसे गाने सुन-सुनकर आईआईटी के छात्रों के दिमाग में फिज़िक्स के सूत्र की जगह लिपस्टिक लगाने की उत्कंठा घर करने लगी है। माता-पिता परेशान हैं कि सदियों से चली आ रही डॉक्टरी-इंजीनियरी में भेजने की प्रथा पर रोक कैसे लगाएं। उनके बच्चों के तो डीएनए में इंजीनियरिंग की तैयारी घुसी हुई है। ऐसे में उन्होंने जाना तो इन्हीं संस्थानों में है, जहां साल के आखिर में लिपस्टिक मलकर इंजीनियर बनने का सबूत देना पड़ता है। वैसे, लिपस्टिक कांड पर मीडिया की कृपालु नज़र से कई कोचिंग संस्थानों का फायदा भी होने लगा है। कई गलियों में कोचिंग सेंटर खुलने लगे हैं। यहां आईआईटी के लिए क्रैश कोर्स में लिपस्टिक वाला पैकेज मुफ्त है। लड़की, लिपस्टिक सबकी सुविधा मुफ्त। एक दूसरे कोचिंग संस्थान ने प्रीलिमिनरी राउंड में ऐसे ही कांपटीशन से छात्रों का दाखिला लेने का फैसला किया है। मतलब, आप इंजीनियरिंग की पढाई करना चाहते हैं तो लिपस्टिक लगाना ज़रूर सीख कर आएं। लिपस्टिक इंजीनियरों की पहचान बन गया है। स्टेटस सिंबल बन गया है। अब हर लड़के के पास एक हाथ में इरोडोव की किताब और दूसरे में लिपस्टिक दिखने लगी है। आह! क्या क्रांतिकारी दृश्य है। इंजीनियरिंग का ‘लिपस्टिक काल’, इधर-उधर सब कुछ लाल।

पांचवा अध्याय

मीडिया का असर तो होता ही है। सरकारी तंत्र और मीडिया रिश्ते में मौसेरे भाई लगते हैं। एक नींद में चिल्लाता है तो दूसरा नींद में चलने लगता है। आईआईटी रुड़की में लिपस्टिक ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। संस्थान ने वहां लड़कियों के मिनी स्कर्ट पहनने पर बैन लगा दिया गया है। पहले ये काम सिर्फ फतवा जारी करने वाले मुल्ला किया करते थे। अब ग्लोबलाइज़ेशन अपना असर छोड़ रहा है। हालांकि, कॉलेज की लड़कियां खुश हैं क्योंकि अब तक सिर्फ बड़ी हस्तियों की मिनी स्कर्ट पर ही बैन लगा करता था। और उनकी शादी भी विदेश में होती थी। लड़कियों को इस बैन से संभावनाएं दिखने लगी हैं। एक अदनी सी लिपस्टिक ने उन्हें हस्ती बना दिया है। मगर, मुझे एक बात समझ नहीं आई कि लिपस्टिक होठों पर लगी तो बैन मिनी स्कर्ट पहनने पर क्यों लगा। लिपस्टिक और स्कर्ट का क्या संबंध हो सकता है। ये तो बड़े वैज्ञानिकों के शोध का विषय हो सकता है। शायद आईआईटी से ही इस पर कोई कामयाब रिसर्च निकले। फिलहाल, ये भोजपुरी गाना सुनिए जो आईआईटी वाले जमकर बजा रहे हैं – हाय रे होंठ लाली, हाय रे कजरा....जान मारे तहरो टूपीस घघरा (घघरा यानी मिनी स्कर्ट !!)...

इतिश्री...

निखिल आनंद गिरि
Subscribe to आपबीती...

शनिवार, 30 अक्तूबर 2010

काश ! रात कल ख़त्म न होती...

सुबह-सुबह जब आंख खुली तो
एक घोंसला उजड़ चुका था....
स्मृतियों के गीले अवशेष बचे थे
तिनका-तिनका बिखर चुका था....

सूरज की अलसाई किरणें
दीवारों से जा टकराईं
पहली बार.....
मायूसी ने कमरे में पाँव पसारे
हंसी उड़ाई.....

पहली बार....
लगा कि जैसे घड़ी की सुईयां
उग आयी हैं बदन में मेरे

बिस्तर से दरवाज़े तक का सफ़र
लगा कि ख़त्म न होगा...
सुबह का पहला पहर
लगा कि ख़त्म न होगा....

रात एक ही प्लेट में दोनों
खाना खाकर, सुस्ताये थे...
देर रात तक बिना बात के
ख़ूब हँसे थे, चिल्लाये थे....
काश !! रात कल ख़त्म न होती.....

अभी किसी ने दरवाज़े पर दस्तक दी है...
मैंने सोचा-तुम ही होगे...

आनन-फानन में बिस्तर से नीचे उतरा
हाथ मेज से टकराए हैं...
खाली प्लेट नीचे चकनाचूर पड़ी है
दरवाज़े पर कोई दस्तक अब भी खड़ी है.....

मैं बेचैन हुआ जाता हूँ
बिस्तर से दरवाज़े तक का लम्बा रस्ता तय करता हूँ....
कोई नहीं है ...........

एक हँसी का टुकडा शायद तैर रहा है
दूर कहीं पर ....
आंखों में गीली मायूसी उभर रही है....
एक नदी मेरे कमरे में पसर रही है.....

और मैं
संवेदना का पुल बनाकर
इस नदी से बच रहा हूँ
और आंखों के समंदर से तुम्हारा
अक्स फिर से रच रहा हूँ..........

निखिल आनंद गिरि

Subscribe to आपबीती...

मंगलवार, 26 अक्तूबर 2010

लड़के सिर्फ जंगली...

क्या ऐसा नहीं हो सकता,

कि हम रोते रहें रात भर

और चांद आंसूओं में बह जाए,

नाव हो जाए, कागज़ की...

एक सपना जिसमें गांव हो,

गांव की सबसे अकेली औरत

पीती हो बीड़ी, प्रेमिका हो जाए....

मेरे हाथ इतने लंबे हों कि,

बुझा सकूं सूरज पल भर के लिए,

और मां जिस कोने में रखती थी अचार...

वहां पहुंचे, स्वाद हो जाएं....

गर्म तवे पर रोटियों की जगह पके,

महान होते बुद्धिजीवियों से सामना होने का डर

जलता रहे, जल जाए समय

हम बेवकूफ घोषित हो जाएं...

एक मौसम खुले बांहों में,

और छोड़ जाए इंद्रधनुष....

दर्द के सात रंग,

नज़्म हो जाए...

लड़कियां बारिश हो जाएं...

चांद हो जाएं, गुलकंद हो जाएं,

नरम अल्फाज़ हो जाएं....

और मीठे सपने....

लड़के सिर्फ जंगली....

निखिल आनंद गिरि

Subscribe to आपबीती...

रविवार, 24 अक्तूबर 2010

शोकगीत...

तुम्हारी देह,

पोंछ सकता मेरी आस्तीन से

तो पोंछ देता...


सर्पिल-सी बांहों के स्पर्श में,

दम घुटने लगा है....

सच जैसा कुछ भी सुनने पर

बेचैन हो जाता है भीतर का आदमी....


जानता हूँ,

कि मेरी उपलब्धियों पर खुश दिखने वाला....

मेरे मुड़ते ही रच देगा नई साजिश...

मैं सब जानता हूँ कि,

आईने के उस तरफ़ का शख्स,

मेरा कभी नही हो सकता....


रात के सन्नाटे में,

कुछ बीती हुई साँसों की गर्माहट,

मुझे पिघलाने लगती है....

मेरे होठों पर एक मैली-सी छुअन,

मेरी नसों में एक बोझिल-सा उन्माद,

तैरने लगता है...


तुम, जिसे मैं दुनिया का

इकलौता सच समझता था,

उस एक पल सबसे बड़ा छल लगती हो....


मुझे सबसे घिन्न आती है,

अपने चेहरे से भी.....

धो रहा हूँ अपना चेहरा,

रिस रहे हैं मेरे गुनाह...


चेहरा सूखे तो,

बैठूं कहीं कोने में...

और लिख डालूँ,

अपनी सबसे उदास कविता....


निखिल आनंद गिरि


Subscribe to आपबीती...

शनिवार, 23 अक्तूबर 2010

लाशों के शहर में...

कभी-कभी लगता है
फट जाएंगी नसें...
सिकुड़ जाएगा शरीर,
खून उतर आएगा आंखों में...

हम पड़े होंगे निढ़ाल,
अपने-अपने कमरों में...
कोई नहीं आएगा रोने,
हमारे लाशों की सड़ांध पर,
अगल-बगल पड़ी होंगी
अनगिनत लाशें....

शहरों के नाम नहीं होंगे तब,
लाशों के शहर होंगे सब
फिर हम बिकेंगे महंगे दामों पर,
हम माने, हमारी लाशें...
नंगे, निढ़ाल  शरीर की
लगेंगी बोलियां...

हमारी चमड़ी से अमेरिका पहनेगा जूते..
हमारी आंखों से दुनिया देखेगा चीन...
किसी प्रयोगशाला में पड़े होंगे अंग
वैज्ञानिक की जिज्ञासा बनकर...
तुम देखना,
कितनी महंगी होगी मौत...
इस ज़िंदगी से कहीं बेहतर...
दो कौड़ी की ज़िंदगी....
तुम्हारे बिन.....

निखिल आनंद गिरि

मंगलवार, 19 अक्तूबर 2010

एक शायर मर गया है...

एक शायर मर गया है,
इस ठिठुरती रात में...
कल सुबह होगी उदास,
देखना तुम....

देखना तुम...
धुंध चारों ओर होगी,
इस जहां को देखने वाला,
सभी की...
बांझ नज़रें कर गया है....
एक शायर मर गया है....

मखमली यादों की गठरी
पास उसके...
और कुछ सपने पड़े हैं आंख मूंदे....
ज़िंदगी की रोशनाई खर्च करके,
बेसबब नज़्मों की तह में,
चंद मानी भर गया है.....
एक शायर मर गया है....

एक सूरज टूट कर बिखरा पड़ा है,
एक मौसम के लुटे हैं रंग सारे....
वक्त जिसको सुन रहा था...
गुम हुआ है...
लम्हा-लम्हा डर गया है....
एक शायर मर गया है...
इस ठिठुरती रात में....

निखिल आनंद गिरि
Subscribe to आपबीती...

रविवार, 17 अक्तूबर 2010

प्यारी झुकी हुई रीढ़ के नाम....

हे ईश्वर!

हम तुम्हारी दी हुई रीढ़ से परेशान हैं....

गाहे-बगाहे झुक जाती है,

या झुका दी जाती है...

गलत उम्र में....

जिस उम्र में पिता के पांव छूने थे...

और बहुत से बुद्धिजीवी मुच्छड़ों के...

दिमाग ने कहा,

रीढ़ बन जा ढ़ीठ

तो तनी रही पीठ...

जिस उम्र में पढ़नी थी किताबें...

और रटने थे उबाऊ पहाड़े....

या फिर कंठस्थ करने थे सूत्र

कि ज़हरीली गैसों के निकनेम कैसे पड़े.....

हम खड़े रहे स्कूल  की बालकनी में...

घंटों संभावनाएं तलाशते...

बांहों में बांहे पसारे....

इसी तनी रीढ़ के सहारे..

हम चले थे लेकर रौशनी की तरफ...

मां के कुछ मीठे पकवान,

और छटांक भर ईमान.....

जो शहर के लिए अनजाने थे...

अब ठीक से याद नहीं,

मगर तब भी रीढ़ तनी हुई थी...

फिर अचानक...

कुछ लोग थे जो गड़ेरिए नहीं थे...

वो शर्तिया पहली नज़र का धोखा रहा होगा..

मगर उन्हें चाहिए थे खच्चर...

कि जिनकी पीठ पर लाद सकें...

वो अपनी तरक्की का बोझ..

उन्होंने छुआ हमारी सख्त पीठ को...

और एक सफेद कागज़ पर लिए नमूने....

हमारी भोली ख्वाहिशों का....

वो ज़ोर से हंसे...

और हमने अपनी आंखे मूंद ली...

(और हमें दिखा अपने मजबूर पिताओं का चेहरा)

फिर अचानक झुक गई रीढ़...

और हम उम्र से काफी पहले...

हे ईश्वर! बूढ़े हो गए...

 
निखिल आनंद गिरि
 
Subscribe to आपबीती...

बुधवार, 13 अक्तूबर 2010

स्तब्ध कर देने का सुख...

आईए ज़रा-सा बदलें,
खुश होने के तरीके...

जो भी दिखे सामने,
उछाल दें उसकी टोपी
और हंसें मुंह फाड़कर
बदहवासी की हद तक...

जिसे सदियों से जानने का भरम हो,
सामने पाकर ऐंठ ले मुंह
उचकाकर कंधे, बोलें-
'हालांकि, चेहरा पहचाना-सा है
मगर दिमाग का सारा ज़ोर लगाकर भी
माफ कीजिए, याद नहीं आ रहे आप'!
स्तब्ध कर देने का सुख,
फैशन है आजकल...

पिता की अक्ल भरी बातें,
सुनते रहें लगाकर कानों में हेडफोन,
और नाश्ते के लिए रिरियाती मां को
दुत्कार दें हर सुबह,
साबित कर दें भिखारन....
आह! सुख कितना सहज है..

आईए हम हो जाएं अश्वत्थामा
नहीं, नहीं, युधिष्ठिर
और खूब फैलाएं भ्रम
कि जो मरा वो हम थे...
आह! छल का सुख
मरते रहें अश्वत्थामा, हमें क्या...

पृथ्वी से निचोड़ ली जाएं
सब प्राकृतिक संपदाएं,
पेड़, फूल, जानवर और प्यार...
सब हो जाएं निर्वस्त्र...
ममता से बांझ धरती पर,
अभी-अभी नवजात जैसे...

आह! एक पीढ़ी का वर्तमान
बोझिल, सूना, नीरस
आह! एक बांझ भविष्य का रेखाचित्र...
खुश होने को गालिब ये खयाल अच्छा है....

निखिल आनंद गिरि

शुक्रवार, 8 अक्तूबर 2010

तुम नहीं हो तो हर खुशी फीकी...

प्यास इतनी कि ज़िन्दगी फीकी,
तुम नहीं हो तो हर खुशी फीकी..
एक माहताब-ए-हुस्न के आगे,
चाँद की सारी रौशनी फीकी..
चन्द अल्फ़ाज़ ने ही कर डाली,
उम्र भर की ही दोस्ती फीकी..
दर्द की सीढियाँ न खत्म हुईं,
आँसुओं की पड़ी नदी फीकी..
जिस्म रिश्ते के दरमियां आया,
लम्स की ताज़गी हुई फीकी...
शहर की रौनकें न कर डालें,
मां के आँचल की ज्योत ही फीकी....

लम्स-छुअन
निखिल आनन्द गिरि 
Subscribe to आपबीती...

बुधवार, 6 अक्तूबर 2010

आइनों ने कर लिया, मेरा ही अपहरण....


कौड़ियों के भाव बिका, जब से अंतःकरण,
अनगिन मुखौटे हैं, सैकड़ों हैं आवरण...
मदमस्त होकर जो झूमती हैं पीढियां,
लड़खड़ा न जाएँ कहीं सभ्यताओं के चरण...
ठिठका-सा चाँद है, गुम भी, खामोश भी,
जुगनुओं को रात ने दी है जब से शरण...
गुमशुदा-सा फिरता हूँ, अपनों के शहर में,
आइनों ने कर लिया, मेरा ही अपहरण....
मौन की देहरी जब तुमने भी लाँघ दी,
टूट गए रिश्तों के सारे समीकरण...
पीड़ा के शब्द-शब्द मीत को समर्पित हों,
आंसुओं की लय में हो, गुंजित जीवन-मरण...
माँ ने तो सिखलाया जीने का ककहरा,
दुनिया से सीखे हैं, नित नए व्याकरण...

- निखिल आनंद गिरि 


Subscribe to आपबीती...

सोमवार, 4 अक्तूबर 2010

जिस्म की गिरहें....

कुछ लम्हे बेहद शातिर थे,
रिश्तों में दरारें कर डाली...
छीन ली नज़रों की नरमी,
मुस्कान वही पहले वाली....

मैं लाख छिपाता फिरता हूं,
इक सच का लम्हा आंखों में..
सब पढ़ लेते हैं चुपके से
इक गुस्ताखी तारीखों की...
मैं रुह समेटे लौटा था

वो आंसू का सैलाब ही था,
मैं जैसे-तैसे बच निकला,
इक सिलवट तब भी चुपके से,
मैं साथ ही लाया था....
चांद-सितारे सब चुप थे...
उन लम्हों की खामोशी में,,,

वो लम्हे चीख रहे हैं अब,
वो सिलवट तड़प रही है अब....
शातिर लम्हे, नटखट सिलवट...
रिश्तों में घुटन फैलाने लगे...

मैं बेबस आखिर क्या करता,
रोया, चीखा, चिल्लाने लगा...
मजबूरी थी, गुस्ताखी नहीं...
तुम इक ना इक दिन समझोगे,
उस लम्हे की सच्चाई को...
मैं रुह उठाकर ले आया....
पर जिस्म की गिरहें खुल न सकीं...

इस उम्र के रस्ते पर साथी,
ये जिस्म ही मील का पत्थर है...
आओ न मिटा दें सब दूरी,
है रूह की मंज़िल दूर बहुत...

निखिल आनंद गिरि

रविवार, 3 अक्तूबर 2010

इतना नीरस होगा समय....

जब रात से निचोड़ लिए जाएंगे अंधेरे

और उगने लगेगा सूरज दोनों तरफ से..

जिन पेड़ों को तुम देखते हो रोमांस से,

उन्हें देखना सौभाग्य समझा जाएगा...

मिटा दिए जाएंगे रेगिस्तानों से पदचिह्न

और बाक़ी रहेंगे सिर्फ रुपये जैसे सरकारी निशान...

वर्जित क्षेत्रों में पूजे जाने के लिए....


इतना नीरस होगा समय कि,

दम घोंटकर कई बार मरना चाहेगी दुनिया...

समर्थ लोगों की बेबस दुनिया....

जब थोड़ी-सी प्यास और पसीना फेंटकर,

प्रयोगशालाओं में जन्म लेंगी कविताएं...

जैविक कूड़ा समझकर उड़ेल दिया जाएगा अकेलापन...

सूख चुके समुद्रों में....


लगातार युद्धों से थक चुके होंगे योद्धा...

खून का रंग उतना ही परिचित होगा,

जितनी मां....

चांद पर मिलेंगे ज़मीन के मुआवज़े

और कहीं नहीं होगा आकाश...


इतिहास ऊब चुका होगा बेईमान किस्सों से,

तब बड़े चाव से लिखी जाएंगी बेवकूफियां..

कि कैसे हम चौंके थे, बिना प्रलय के...

जब पहली बार हमने चखा था चुंबन का स्वाद...

या फिर भूख लगने पर बांट लिए थे शरीर....

 
निखिल आनंद गिरि

शनिवार, 2 अक्तूबर 2010

चौंक तेरे इस देश की हालत क्या हो गई बापू....

गांधी जी के लिए ये निर्देश नोएडा ऑथोरिटी ने लगवाया है....अब अयोध्या से लेकर कॉमनवेल्थ तक देश में इतना कुछ घट रहा है....तो गांधी जी और कर भी क्या सकते हैं चौंकने के सिवा....फ्लाईओवर देखकर भी चौंक जाएंगे बापू....उनके ज़माने में तो इतना भी नहीं था...हैप्पी बर्थडे बापू...

निखिल आनंद गिरि