शुक्रवार, 17 दिसंबर 2010

कह री दिल्ली.....

यहाँ हर ओर चेहरों की चमक जब भी है मिलती मुस्कुराती है,
यहाँ पाकर इशारा ज़िन्दगी लंबी सड़क पर दौड़ जाती है,
सुबह का सूर्य थकता है तो खंभों पर चमक उठती हैं शामें,
यहाँ हर शाम प्यालों में लचकती है, नहाती है...
दुःख ठिकाना ढूँढता है, सुख बहुत रफ़्तार में है..
माँ मगर वो सुख नही है जो तुम्हारे प्यार में है..............

यहाँ कोई धूप का टुकडा नही खेला किया करता है आंगन में,
सुबह होती है यूं ही, थपकियों के बिन,कमरे की घुटन में,
नित नए सपने बुने जाते यहां हैं खुली आंखों से,
और सपने मर भी जाएँ, तो नही उठती है कोई टीस मन में
घर की मिट्टी, चांद, सोना, सब यहाँ बाज़ार में है...
माँ मगर वो....................

मेरे प्रियतम! हमारे मौन अनुभव हैं लजाते,
हम भला इस शोर की नगरी में कैसे आस्था अपनी बचाते,
प्रेम के अनगिन चितेरे यहा सड़कों पर खडे किल्लोल करते
रात राधा,दिवस मीरा संग, सपनो का नया बिस्तर लगाते,
प्रेम की गरिमा यहाँ पर देह के विस्तार में है...
हाँ! मगर वो............

कह री दिल्ली? दे सकेगी कभी मुझको मेरी माँ का स्नेह-आँचल,
दे सकेंगे क्या तेरे वैभव सभी,मिलकर मुझे, दुःख-सुख में संबल,
क्या तू देगी धुएं-में लिपटे हुये चेहरों को रौनक??
थकी-हारी जिन्दगी की राजधानी,देख ले अपना धरातल,
पूर्व की गरिमा,तू क्यों अब पश्चिमी अवतार में है??
माँ मगर वो........................

निखिल आनंद गिरि
(दिल्ली आकर लिखी गई शुरूआती कविताओं में से एक)

7 टिप्‍पणियां:

saanjh ने कहा…

wow buddy....beautiful. bohot badhiya nazm hai, thapkiyon ke bin.....ghar ki mitti, chaand, sona, baazaar, sabhi kuch.....bade nostalgic ho rahe ho, kya baat hai ;)

Poorviya ने कहा…

क्या तू देगी धुएं-में लिपटे हुये चेहरों को रौनक??
थकी-हारी जिन्दगी की राजधानी,देख ले अपना धरातल,

दिपाली "आब" ने कहा…

its ma favo..iske liye main kya kahun.. Pr ye batayein dilli se itni nafrat kyun hai aapko?

निखिल आनन्द गिरि ने कहा…

ये कौन पूछ रहा है, दिल्ली की एक लड़की या फिर मेरी दोस्त...

सागर ने कहा…

क़यामत बुनते हो यार ! कयामात !
कभी कमेन्ट नहीं कर सकूँ... या कुछ कहने की हिम्मत ना हो तो यह मत समझना की पढ़ा नहीं गया ...

निखिल आनन्द गिरि ने कहा…

शुक्रिया सागर जी....आभार आपका...

निखिल आनन्द गिरि ने कहा…

शुक्रिया सागर जी....आभार आपका...