रविवार, 17 जून 2018

ज़ी न्यूज़ ने बीजेपी को देश समझ लिया है

असली कविता वही है जो सरकारी चुनाव प्रचार के काम आ जाये। ज़ी न्यूज़ ने अभी से ही 'कवि युद्ध-2019' शुरू कर दिया है। फ को 'फ़' बोलने वाली अंतराष्ट्रीय कवियत्री अनामिका अम्बर जब नरेंद्र मोदी को फूल कहती हैं तो समझ ही नहीं आता कि तारीफ कर रही हैं या विरोध। सुदीप भोला ने कविता के नाम पर अमित शाह को 'शहंशाह' बनाकर फ़िल्मी पैरोडी पेश की है - 'एक मसीहा निकलता है, जिसे लोग अमित शाह कहते हैं'। पीछे कुछ प्रमुख पार्टियों के नेताओं के कट आउट्स खड़े हैं। सिर्फ बीजेपी के दो नेताओं (मोदी-शाह) को जगह मिली है, बाक़ी पार्टियों के एक नेता हैं। बल्कि बीजेपी का मनोज तिवारी तो 'शेरा' बनियान पहनकर 'कवि युद्ध' के ग्राफ़िक्स के सहारे बाहर से भी नम्बर बढ़ा रहा है।इन सबके बाद एक कविता में तो ये कवि 'बुद्धिजीवी' होने का भी मज़ाक बना रहे हैं। 

हे ईश्वर! इन्हें माफ करना, ये नहीं जानते ये क्या कर रहे हैं।

धूमिल, आप ठीक कहते थे -
'वे सब के सब तिजोरियों के
दुभाषिये हैं
वे वकील हैं,वैज्ञानिक हैं।
अध्यापक हैं, नेता हैं, दार्शनिक हैं
लेखक हैं, कवि हैं, कलाकार हैं।
यानी कि- कानून की भाषा बोलता हुआ
अपराधियों का एक संयुक्त परिवार है।'

निखिल आनंद गिरि

शनिवार, 27 जनवरी 2018

जब चित्तौड़ जल रहा था, एक ब्राह्मण बंसी बजा रहा था


जी हां। और बंसी पर बज रहा था ‘राग यमन। और वो ब्राह्मण था चित्तौड़ का पुरोहित राघव चेतन। राजपूतों ‘की, के लिए और द्वारा’ प्रचारित, पोषित, तोड़ित-फोड़ित इस फिल्म में मुझे इस ब्राह्मण का रोल सबसे ज़्यादा वज़नदार दिखा। आश्चर्य कि करणी सेना की जगह किसी ‘ब्राह्मण सेना’ का उदय फिल्म से पहले संजय लीला भंसाली नहीं जुगाड़ पाए। शायद इसीलिए क्योंकि करणी सेना के पास बचाने को दीपिका पादुकोण थी और ब्राह्मण सेना (जो पूरी तरह से काल्पनिक है) के पास एक निहायत कम पॉपुलर एक्टर।


इससे पहले कि फिल्म के कुछ मुद्दों पर कुछ कहूं, राजपूतों पर मेरा फ़िल्मी सामान्य ज्ञान ज़ाहिर करने का वक्त आ गया है। राजपूत (मर्द) दो प्रकार के होते हैं एक ‘भंसाली सेना’ के राजपूत और दूसरे ‘करणी सेना’ के राजपूत। भंसाली सेना के राजपूत बहुत अच्छे, मज़बूत उसूलों वाले होते हैं। वो एक बार दूसरी शादी कर लेते हैं, फिर अपनी पहली पत्नी से पूरी फिल्म के दौरान बात तक नहीं करते। अपनी औरतों को जौहर (सती) की परमिशन देकर युद्ध में लड़ने जाते हैं। जब भी युद्ध जैसी कुछ गंभीर परिस्थिति आती है वो लंबे-लंबे गाने गाते हैं और 'राजपूत ये-राजपूत वो' करते रहते हैं। करणी सेना के राजपूत को हम डिजीटल इंडिया में देख ही रहे हैं। वो जी डी गोयनका स्कूल की बस के शीशे तक तोड़ देते हैं। उनके डर से स्कूली बच्चे, महिलाएं दुबक कर बैठ जाती हैं। वो अर्नब गोस्वामी के शो में अंग्रेज़ी में बात करते हैं। और अपनी गुंडागर्दी का सही फिल्मांकन नहीं होने पर संजय लीला भंसाली को थप्पड़ भी मारते हैं। 

फिल्म के बारे मेंआप सब फिल्म की रिलीज़ से काफी पहले से हीसब कुछ सुन चुके हैं। इसीलिए मेरे पास बताने को कुछ भी नया नहीं है। हांकरणी सेना को मेरा ये लेख पढ़कर थोड़ा दुख और पहुंचेगा क्योंकि मैं चश्मदीद गवाह हूं कि लाख कोशिशों की बावजूद वो अपनी ‘आनबान और शान’ पद्मावती (दीपिका पादुकोण) को अंबा टॉकीज़ में घूमड़ नाचने से नहीं रोक सके। पद्मावती’ को देखने के लिए 2 D और 3 D ऑप्शन भी उपलब्ध थे। मगर मैंने 13वीं सदी का विकल्प चुना। पुलिस की पीसीआर वैन की निगरानी मेंलंबी लाइन मेंटिकट के लिए घंटो इंतज़ार वाला तरीका। मैं चाहता था कि महारानी पद्मावती का नाच मैं अंबा सिनेमा की फ्रंट लाइन में बैठकर देखूं ताकि करणी सेना के ज़ख्मों पर बोरी भर नमक और पहुंचे। 
रानी पद्मावती पर सब्ज़ी मंडी इलाके की हर जाति के दर्शकों ने तालियां बजाईंसीटियां बजाईहोली में उन्हें राजा रतन सिंह के साथ बहुत अंतरंग होते देखा। फिर भी करणी सेना सब्ज़ी मंडी थाने के पुलिसिया डंडे के डर से चूं तक नहीं बोलने आई। धिक्कार है ऐसे बहादुरों पर।
संजय लीला भंसाली की इस पौने तीन घंटे की फिल्म में ‘राजपूत’ शब्द हर दूसरे मिनट पर एक बार बोल दिया गया है। आज की तारीख में इससे मिलता-जुलता शब्द ‘विकास’ हैजो भक्त किस्म के लोग हर सांस के साथ बोलने के आदी हैं। 
फिल्म इतनी बुरी नहीं जितनी कुछ बुद्धिजीवी बता रहे हैं। और इतनी अच्छी तो बिल्कुल ही नहीं कि बार-बार देखी जाए। भंसाली की इस फिल्म में जहां खिलजी के ग़ुलाम या बेगम मेहरुन्निसा तक को बेहतर स्पेस मिला है, अमीर खुसरो को बेहद नालायक रोल मिला है। खिलजी के किरदार में रणबीर सिंह अच्छे तो हैं, मगर कभी-कभी वो क्रूरता की ओवरएक्टिंग में एक अय्याश जोकर जैसे लगने लगते हैं। जिस ‘पद्मावती’ के लिए पूरी कहानी रची गई, उसने फिल्म में बताया कि  रूप या गुण देखने वालों की आंखों में होता है। तो ‘रानी सा’ के मुताबिक अपनी नज़र से मैं अगर दीपिका पादुकोण को देखूं तो मुझे कहीं से भी वो इतनी सुंदर नहीं दिखतीं जिनके लिए अलाउद्दीन खिलजी तीन घंटे तक अंबा सिनेमा में तूफान मचाता रहे। राजा रतन (शाहिद कपूर) सेन इतने कृशकाय दिखते हैं (यह तेरहवीं सदी का एक शब्द है, जिसका मतलब ‘ज़ीरो फिगर’ होता है) कि उन्हें देखकर राजपूत खानपान शैली पर सहानुभूति ही ज़्यादा होती है।
खिलजी के डायलॉग, नाच-गाने की वजह से फिल्म मज़ेदार दिखती है। राजपूत सेनापति का वो शॉट जिसमें वो गर्दन कटने के बाद भी तलवार भांजता है, रोंगटे खड़े करने वाला है।मगर जैसे ही हम चित्तौड़ प्रवेश करते हैं, वहां एक छत से राजपूत बहादुर इतनी दूर तक देख लेता है, जितनी दूर से चित्तोड़ आने में खिलजी को सुबह से शाम हो जाए। ऐसे ‘दूरदर्शी’, बहादुर लोगों का इतिहास जौहर वाली रानियों के साथ ही लिखा गया, इसीलिए बार-बार इस काम के लिए भंसाली को कोसना ठीक नहीं।

हांसती प्रथा को जिस तरह से उन्होंने भव्य और ग्लैमर दिया है, वो इस निर्देशक की नीयत पर संदेह पैदा करता है। नीयत तो इतनी ख़राब है कि राजपूत (हिंदू) राजकुमार का दूसरी रानी लाना भी अच्छा और खिलजी (मुसलमान) का एक तंदूरी चिकेन खाना भी बुरा होने की निशानी बना कर रख दिया है। नीयत इतनी ख़राब कि राजपूताना का कबाड़ा किया एक ब्राह्मण ने और इल्ज़ाम आया एक मुसलमान (खिलजी) के सर। 

क्लाइमैक्स के नाम पर पूरी बेशर्मी से एक गर्भवती स्त्री, एक नाबालिग़ लड़की को जौहर के लिए जाते दिखाना लगभग अपराध जैसा है। जब तक रतन सिंह खिलजी से लड़ता रहा, पद्मावती का सती प्रथा पर लंबा लेक्चर ख़त्म ही नहीं होता।

अपने क्लाइमैक्स में एक कुप्रथा पर तालियां बजवाकर संजय लीला भंसाली करणी सेना के किसी एजेंट की तरह दिखने लगते हैं।  


(समीक्षा अगर अनावश्यक रूप से लंबी है, तो इसे भी इस फिल्म की राजपूती परंपरा का पालन समझा जाए। जय हो अन्नदाता की!)

निखिल आनंद गिरि 
(सभी तस्वीरें अंबा सिनेमा की)

गुरुवार, 14 सितंबर 2017

'बेस्टसेलर' हिंदी अपनी भाषा में आते-आते 'बिकाऊ' हो जाती है

हिंदी के नाम पर होने वाले दिवस पहले सप्ताह बने, अब पखवाड़ा होने लगे हैं। आप मेट्रो में सफर कर रहे 50 लोगों से पखवाड़े का मतलब पूछ लीजिए, कम से कम 40 लोग इसे पिछवाड़ाही समझेंगे। सरकारी हिंदी ने हमारा हाल ही ऐसा कर दिया है। आप किसी भी संस्थान में ऐसे पखवाड़ों में होने वाले कार्यक्रमों की लिस्ट उठाकर देख लीजिए। वही घिसी-पिटी प्रतियोगिताएं, वही पुरस्कार के नाम पर लार टपका कर भाग ले रहे प्रतिभागी और श्रोताओं-दर्शकों के नाम पर ख़ाली-ख़ाली कुर्सियां। ये ठीक वैसा ही है जैसा भारत सरकार का इस बार का 'स्वच्छता मिशन' जो इस बार सरकारी आयोजनों में नरेंद्र मोदी के जन्मदिन से शुरू होकर महात्मा गांधी के जन्मदिन पर ख़त्म होगा।

अभी कुछ दिन पहले हिंदी का सबसे ज़्यादा बिकने वाला अखबार दैनिक जागरणएक बेस्टसेलरलिस्ट लेकर आया। यह हिंदी साहित्य के बेस्टसेलर साहित्य की सूची थी (कहानियां, लेख आदि)। इस अखबार ने इस महान सूची को तैयार करने में इतनी रिसर्च की, इतनी रिसर्च की कि एक ही प्रकाशक की सात किताबें टॉप टेन में शामिल करनी पड़ीं। प्रकाशक भी ऐसा कि कभी हिंदी को ख़ूनदेने के मिशन के नाम पर शुरू किया गया शैलेश भारतवासी का हिंदयुग्म छपास लेखकों की जेब चूसकर हिंदी का बेस्टसेलर प्रकाशक बन गया। एक ऐसा प्रकाशक जहां कहानियां बाद में लिखी जाती हैं, राइटर बाद में तय होते हैं, ऑनलाइन प्री-बुकिंग पहले शुरू हो जाती है। हिंदी को कैलेंडर से उतारकर ऐसे बेस्टसेलर समय ने पांव पोंछने वाली दरी बना दी है। आप हिंदी के सीईओ बन जाइए और अपने आसपास हिंदी का झंडा लेकर चार बाउंसरलेखक-आलोचक रख लीजिए। थैंकयू।

सोशल मीडिया एक बची-खुची उम्मीद के तौर पर है। मगर सोशल मीडिया पर अच्छा ढूंढने के चक्कर में  इतनी कविताएं हैं, इतनी हिंसा है, इतना ख़ून-ख़राबा है कि वहां भी बड़ेलोगों के लाइक के लायकसिर्फ वही हैं, जो असल दुनिया में एक-दूसरे के चाटुकार कुनबे का हिस्सा हैं। मिसाल के तौर पर एक हिंदी साहित्यिक पत्रिका के संपादक की कहानी बताता हूं। एक बार उनके दफ्तर में कुछ कविताएं भेजीं। फिर तीन महीने बाद उन्हें याद दिलाया कि सर, कुछ कविताएं भेजी हैं। उन्होंने कहा, हमारे सहायक से बात कीजिए। फिर मैं सहायक से अगले छह महीने बात करता रहा। सहायक भी बात करते रहे। फिर उन्हें सोशल मीडिया पर मैसेज किया कि सर, बात करते-करते आपके सहायक मेरे अच्छे मित्र हो गए हैं। अब कविताओं का क्या करूं। उनका जवाब आज तक नहीं आया। आप संपादक का नाम एकांत श्रीवास्तव से लेकर लीलाधर कुछ भी रख लीजिए, क्या फर्क पड़ जाएगा। सोचिए अगर ब्लॉग न होता, दो-चार भले संपादक और न होते तो इमानदार कवियों का ये पखवाड़े क्या उद्धार कर लेते।

कवियों से एक बात और याद आई। इस बार हिंदी पखवाड़े में भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC) जाना हुआ। एक कविता प्रतियोगिता के जज के तौर पर। वहां क़रीब 65 कवि थे! मतलब कि देश के सबसे लोकप्रिय मीडिया संस्थान में हर संभावनाशील पत्रकार हिंदी का कवि होना चाहता है। मै चाहता हूं कि हिंदी के संवेदनशील लोग या कवि मीडिया चैनलों तक थोक भाव में पहुंचे वरना आपके घर में होने वाली सबसे बुरी घटनाओं को सबसे मसालेदार बनाकर हिंदी एंकर आपके मुंह में माइक ठूंस कर मुस्कुराते रहेंगे।   

ज़्यादा लंबी छोड़िए, चलते-चलते इतना बताइए, पिछली बार से इस बार तक में कितने नेताओं, अधिकारियों, हिंदी प्रेमियों ने अपने बच्चों को हिंदी मीडियम स्कूल में दाखिला करवाया और फेसबुक पर स्टेटस डाला। अगर आपका जवाब 'ना' हा तो मुझसे पलटकर सवाल मत कीजिएगा वरना हिंदी में एक गाली निकल जाएगी।

निखिल आनंद गिरि

मंगलवार, 15 अगस्त 2017

मेरा देश बदल रहा है

'मेरा देश बदल रहा है
मेरा देश बदल रहा है..

देश का नक्शा मुंह दाबे,
बन्दर अदरक को चाभे
छम छम उछल रहा है
मेरा देश बदल रहा है।

बेदम बचपन बेचारा
जिसने मिलजुलकर मारा
दिल्ली टहल रहा है
मेरा देश बदल रहा है।

कवियों को चालाकी दो,
डुबकी दो, तैराकी दो
बच के निकल रहा है
मेरा देश बदल रहा है।

जनता को मत राशन दो
ठूंस ठूंस के भाषण दो
ये ही अमल रहा है
मेरा देश बदल रहा है।

अपने धन पर ताले हैं
काले धन को पाले हैं
सच अब निकल रहा है
मेरा देश बदल रहा है।

सूरज को गप से खा लो
राजा का मुंह झरका दो
ज़हर उगल रहा है
मेरा देश बदल रहा है।
मेरा देश..'

निखिल आनंद गिरि

मंगलवार, 11 जुलाई 2017

बीमार होती दुनिया को सिर्फ पोएट्री नहीं, ‘पोएट्री क्लीनिक’ की ज़रूरत है

कोई मन्नत अरमान हैं फेसबुक पर। कुछ महीने पहले मेरी आवाज़ में रिकॉर्ड करने के लिए कुछ कविताएं भेजी थीं। मैंने कारण पूछा तो बताया कि आपकी आवाज़ की गोलियां बनाकर मरीज़ों का इलाज करेंगी। मैंने कविताएं देखीं तो वो कुछ ख़ास तरह की कविताएं थीं। हीलिंग टचवाली। फिर एकाध रिकॉर्डिंग्स भेज दी और भूल गया।
कल रात को अचानक एक इनबॉक्स मैसेज आया कि कविताओं की एक नई क्लीनिक खुली है 'POETRYCLINIC' के नाम से। देखा तो बड़ा अच्छा लगा। वेबसाइट की टैगलाइन है - 'Poerty that heals'। पोएट्री क्लीनिक (www.poetryclinic.com) के पेज पर जब आप जाएंगे तो लगेगा किसी क्लीनिक में आ गए हैं। सारे सेक्शन के नाम कुछ इस तरह मिलेंगे – ओपीडी’, ‘साउंड थेरेपी, विज़ुअल थेरेपी, मेडिकल स्टोर आदि। कमाल का डिज़ाइन लगा मुझे।
ऐसा नहीं कि साहित्य पर बात करने वाली वेबसाइट्स नहीं हैं, कविताओं पर ज्ञान रखने वाले पोर्टल या पेज नहीं हैं, मगर बीमार होती जा रही दुनिया का इलाज करने के मकसद से हिंदी में कोई इस भोलेपन से मेहनत कर रहा है, इस बात की तारीफ करनी चाहिए। हिंदी कविता की दुनिया में लड़ाइयां बहुत हैं, छपास बहुत है, टांग-खिंचाई बहुत है, ख़ेमेबाज़ियां बहुत हैं, मगर कविताओं से इलाज की उम्मीद करने वाले लोग बड़े कम हैं।
नए-पुराने सब तरह के कवि मिलेंगे इस अनोखी वेबसाइट पर। कुंवर नारायण, अशोक वाजपेयी, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना से लेकर अविनाश मिश्र और विपिन चौधरी तक। सिर्फ हिंदी ही नहीं विश्व कविताओं का भी एक कॉलम है। दिन के हिसाब से कविताओं की गोलियां हैं। नए कवियों को न्यू हीलर्सबताया गया है तो पुराने कवियों को मंजा हुआ डॉक्टर। सब मिलकर इस दुनिया का इलाज करेंगे।
इसके लिए वेबसाइट पर जाना पड़ेगा। अगर आपको लगता है कि आपके आसपास कोई कविताओं की दवाई से जी उठेगा तो मेडिकल स्टोर सेक्शन से अपनी पसंद की कविता अपने घर ले जाइए, या फिर अपने दोस्त को गिफ्ट कर सकते हैं।
पोएट्री क्लीनिकअपने परिचय में कहती है – हमें ऐसा लगता है कि कविता ही हमें बचाएगी। अगर आपको भी ऐसा ही लगता है, तो हमसे जुड़े रहिए। ऐसा नहीं लगता है, तो कुछ देर यहां रुककर देखिए, शायद आपको भी लगे कि कविताओं के पास वो ताकत है कि वो हमें बचा सकती है, बशर्ते हम बचना चाहें। हैप्पी पोएट्री!
पोएट्री क्लीनिक के बारे में बहुत ज़्यादा नहीं जानता, मगर इससे जुड़ गया हूं। किसी भी इमानदार कोशिश के साथ जुड़ना अच्छा लगता है। आप भी इस टीम का हौसला बढाइए। पोएट्री क्लीनिक की पूरी टीम को बधाई।

निखिल आनंद गिरि

शुक्रवार, 23 जून 2017

इस देश का हर दर्शक ‘ट्यूबलाइट’ है, जिसे सलमान खान पसंद है

जिस तरह गांधीगिरी पर संजय दत्त का कॉपीराइट है, परफेक्शन वाली भूमिकाओं पर आमिर खान का, हाथों के विस्तार से प्रेम रचने पर शाहरूख ख़ान का, उसी तरह बेसिरपैर की फिल्मों का कॉपीराइट सिर्फ और सिर्फ सलमान खान पर है। आप दबंग देख लें, दबंग-2 देख लें या कोई भी सलमान की फिल्म, बंदे को यक़ीन है कि फिल्म में कहानी का लेवल गिरता जाएगा और दर्शक झक मार कर आते रहेंगे।

तो इस तरह ट्यूबलाइटसलमान के यक़ीन की फिल्म है, जिसे इस बार ईद तो क्या नरेंद्र मोदी भी फ्लॉप होने से नहीं बचा पाएंगे, ऐसा मेरा यक़ीन है। फ्लॉप-हिट तो ख़ैर अपनी जगह है, फिल्म में बेवकूफी का भी एक लॉजिक होता है, जो सलमान की फिल्मों में नहीं है। अच्छा हुआ कि वो इस फिल्म के प्रोड्यूसर ही बने, निर्देशक नहीं वरना एकाध अच्छे गाने और सुंदर कैमरा भी दर्शकों को नसीब नहीं होता।

फिल्म की कहानी कुछ नहीं है। आप सलमान को देखने जा रहे हैं और आधे घंटे में ही फिल्म में शाहरूख खान नज़र आने लगते हैं।  फिर शाहरूख एक बोतल को लेकर अटक जाते हैं कि सलमान की फिल्म है तो वो इस बोतल को भी नचा सकता है। जब तक बोतल नहीं नाचती, शाहरूख फिल्म से जाते ही नहीं। फिल्म में गांधीजी भी आ जाते हैं। वो फिल्म से अंत तक नहीं जाते। सलमान ने उनकी कही बातों की चिट बना ली है और वो गांधी जी के नाम पर दर्शकों के साथ वही करता है जो देश की हर बड़ी हस्ती आम लोगों के साथ करती आई है। गांधी के नाम पर उल्लू बनाने के क्रम में सलमान ख़ान इतनी बार भारत माता की जय चिल्लाता है कि दोबारा भी अगर हिरण को मारने का मुकदमा चले तो वो बाइज्ज़त बरी कर दिया जाए।

अब आते हैं फिल्म की बची-खुची कहानी पर। 1962 के दौरान भारत-चीन के बीच जंग में कुमाऊं के एक पहाड़ी गांव से भरत सिंह बिष्ट सेना में शामिल होकर लड़ने जाता है। उसका भाई, यानी सलमान खान, जो दिमाग से थोड़ा कमज़ोर है, अपने भाई के लौटने का इंतज़ार करता है। इस बीच एक चीनी मूल के मां-बेटे उसी गांव में रहने आ जाते हैं। सलमान को उनमें दुश्मन दिखते हैं, मगर ओम पुरी गांधी के पक्के चेले हैं, सो सलमान को चीनी दुश्मनमें भी दोस्त देखने पर यक़ीन करवाते हैं। यहां पर मुझे जितेंद्र की एक फिल्म हातिमताईयाद आती है, जिसमें राजकुमार हातिम सात सवालों की खोज में निकलता है और एक-एक सवाल को डीकोड करते हुए एक परी को मुक्त करता जाता है। यहां सलमान वो ट्यूबलाइटहातिम है और गांधी जी के वचन को डीकोड करता जाता है।

‘FAITH MOVES MOUNTAINS’ जैसी कहावत की बत्ती बनाती हुई सलमान की इस फिल्म में दिखाया गया है कि अगर कुंग फू वाले पोज़ में कोई पहाड़ों की तरफ घूर कर देखता रहे तो भूकंप भी ला सकता है। और तो और पूरब दिशा की तरफ इसी पोज़ में देखते रहने की वजह ही भारत-चीन की जंग भी ख़त्म हुई थी। यक़ीन न हो तो 1962 के दैनिक जागरण का कुमाऊं संस्करण देख लीजिए। मुझे यकीन है इसी दैनिक जागरण में ख़बर छपेगी कि एक दिन किसी हिंदू हृदय सम्राट ने सलमान वाले पोज़ में संसद की छत पर खड़े होकर भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित कर दिया है।

सलमान खान जब फिल्म के अंत में एक भावुक सीन में रोते हैं तो इस नादान दर्शक को भी रोना आता है। मगर वो खुशी के आंसू हैं कि जैसे-तैसे ये फिल्म ख़त्म तो हुई। मुझे यक़ीन है कि इसी फिल्म में काम करने की वजह से ओम पुरी को दिल का दौरा पड़ा और वो फिल्मी ही नहीं पूरी दुनिया को छोड़ गए।

अंत में मैं उस प्रोमोकोड का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं जिसकी वजह से इस फिल्म को देखने के लिए कम पैसे देने पड़े। 

निखिल आनंद गिरि
ज़िंदगी को दोबारा जीने का मौका मिलता तो भी मैं शायद इसी तरह जीता। इतनी ही बेतरतीब, इतनी ही उलझन भरी। जीने का शायद यही एक अंदाज़ मुझे पता है। जिसमें तुम हो, मुझे बार-बार ठुकराती हुई। मैं हूं, खुशी-खुशी ख़ारिज होता हुआ। और कुछ जीना भी होता है क्या।
मैंने चिट्ठियां लिखनी छो़ड़ दी हैं। चिट्ठियां आती भी नहीं। उम्मीद भी नहीं आती। अब तो तुम्हारा पता भी याद नहीं। जाने कौन-से शहर में तुम्हारी रौनके होंगी। अपना तो यहीं है। एक उदास कोना किसी कमरे का। शहर-दर-शहर यहीं से देखता रहा तुम्हें। सोचता रहा। मन मसोसता रहा।
मेरी एक बेटी है। कभी-कभी गुस्से में बात नहीं करती। तो मैं उसे देखकर मुस्कुरा उठता हूं। तुम भी जब रुठती थीं तो ऐसे ही रूठती थीं। हम घंटो बात नहीं करते थे। दो भले लोगों को रूठना बहुत बुरा होता है। बहुत ही बुरा।

जैसे आजकल हालात हैं ज़िंदगी मौत से ज़्यादा दिलचस्प हो गई है। ंमैं रोना भूल गया हूं। जैसे तुम मुझे। 

निखिल आनंद गिरि

रविवार, 30 अप्रैल 2017

'सपने में पिया पानी' - एक भले इंसान की समर्थ कविताएं

कवि-मित्र समर्थ वशिष्ठ का कविता-संग्रह सपने में पिया पानीसामने है। किताब के साथ समर्थ के हाथ से लिखी सात फरवरी 2017 की एक चिट्ठी है जो रफ पेपर पर लिखी गई है – प्रिय निखिल, किताब की तुम्हारी कॉपी भेज रहा हूं। इस पर आलोचनात्मक कुछ लिखने का मन बना सको तो मुझे बहुत प्रसन्नता होगी। सोचना। कागज़ की दूसरी तरफ से पत्र लिखने की धृष्टता के लिए क्षमाप्रार्थी हूं। सोचा कुछ पेड़ बचाए जाएं।

समर्थ की कविताओं पर बात करने के लिए इस ख़त का ज़िक्र ज़रूरी था। मित्र हैं, सीधा फोन करके कहते कि कुछ लिखो मेरे लिए। मगर उन्होंने ऐसा नहीं किया। सकुचाते हुए मेरे सोचने पर छोड़ दिया। ऐसे ही हैं समर्थ। भीतर-भीतर रहने वाले। इस तरह का आग्रह एक अच्छे कवि के साथ अच्छे इंसान होने की भी निशानी होती है। मुझे अच्छे कवियों से ज़्यादा अच्छे इंसानों को पढ़ने में ज़्यादा दिलचस्पी रही है। जैसे समर्थ।

समर्थ की सबसे छोटी कविता पांच शब्दों की है, जिसका शीर्षक छह शब्दों का है –‘एक आवारा कुत्ते का समाधि-लेख
जब तक जिया
गंधाया नहीं।
एक कवि के तौर पर मैं ऐसी कविताओं को कविताएं नहीं मानता। फेसबुक के ज़माने में हम सब ब्रह्रवाक्यों के आविष्कारक हैं। इसके लिए कवि होना या न होना ज़रूरी नहीं। अब एक लंबी कविता का टुकड़ा पढ़ता हूं –
अलस्सुबह
मोबाइल पर बात करता एक शहर
कहां हो रही हैं इतनी बातें
कौन कर रहा है इतनी बातें
मैं क्यूं नहीं हूं इनके बीच? (कविता – दिल्ली)
ये कविता कहने की समर्थ की शैली है। शहर का परिचय देते-देते कवि अपना परिचय देने लगता है। राजधानी जैसे शहर में हिंदी के एक कवि की हैसियत क्या है। वो क्यूं नहीं है तमाम संवादों यानी तिकड़मों, कानाफूसियों, पुरस्कारों के बीच। हल्के-से अपना सवाल रखकर कविता ख़त्म कर देता है। दिल्ली के पास इसका कोई जवाब नहीं।

सपने में पिया पानीएक भले, संकोची इंसान की डायरी जैसा संग्रह है। जिसमें वो थोड़ा मुखर दिखते हैं, एकदम सहज और स्वाभाविक। शायद अपनी बेटी को एक शानदार कविता पराजयके ज़रिए समर्थ अपने अच्छेहोने की विरासत सौंपते हैं –
मैं तुम्हें हारना सिखाऊंगा
जैसे मैं तुम्हें सिखना चाहता हूं
जीतना
जीतो तुम शायद सिर्फ एक बार
हारोगी सौ बार
खेदपत्र, निपट अकेली चुप्पियां
साथ चलेंगी तुम्हारे भी
मैं सिखाना चाहता हूं तुम्हें
कि चुननी पड़ती है कई बार हार(कविता - 'पराजय')
ये मेरी सबसे पसंदीदा कविता है। इतना ओरिजिनल होने के लिए जो जीवन जीना पड़ता है, वही अनुभव एक भले इंसान के गंभीर कवि बनने का ट्रांज़िशन है। हम सब कवि जैसे लोग दुनिया को थोड़ा-बहुत विनम्र इन्हीं पलों में बना सकते हैं। अफसोस, मेरे पास ऐसी कविताएं कम हैं।


समर्थ की कविताओं में जल्दबाज़ी कहीं नहीं है। एक ठहराव है-जो बनावटी नहीं है। एक अनगढ़ता भी है, जो भीतर तक उतरती है -
 एक स्त्री का तुम्हें
तुम्हारे तिलों और मुहांसों समेत
जानने का आनंद
तुम्हारा एक स्त्री को जानना
अपनी टांग की ढीठ दाद से बेहतर।(कविता - 'एक प्रेमगीत')
पहले कविता-संग्रह में कई हल्की कविताएं भी हैं, जिन्हें नहीं होना चाहिए था। कुछ ग़ज़लें भी हैं, जिनके बिना भी कविता-संग्रह चल सकता था। एक प्यारा-सा नवगीत भी है –
खाली हो टंकी जब सूखे हों नल
शॉवर में रहता है थोड़ा-सा जल
ऐसे ही जाता है जीवन निकल।
चिल्लाती सुबहों में फैले उजास
जागूं मैं ज्यूं ही इक कविता उदास
जम्हाई लेती-सी आ बैठे पास।

समर्थ अपने नाम के बराबर ही समर्थ कवि हैं। कविताएं उनके पास यार-दोस्त की तरह जम्हाई लेती बैठी रहती हैं। उनकी कविताओं में भीतर का मंथन ज़्यादा है, जो नया और अच्छा लगता है। आजकल बाहर-बाहर लिखने वाले यूं भी बहुत हैं हिंदी कविताओं में। इस तरह अपने दोस्त समर्थ की सारी कविताएं पढ़वायी जा सकती हैं, मगर कुछ भीतर-भीतर बचा लेता हूं, अपने लिए। बधाई।


निखिल आनंद गिरि

शनिवार, 1 अप्रैल 2017

देश के लिए ही सही, 'अनारकली ऑफ आरा' ज़रूर देखिए

आरा एक आदर्श शहर है। खाँटी लोग अगर इस धरती पर जहाँ कहीं भी बचे हुए हैं तो उनमें से एक आरा भी है। यहाँ के लोगों के स्वभाव में अदम्य साहस और दुस्साहस का मणिकांचन योग मिलता है। आरा के लोगों को इस बात का श्रेय दिया जाना चाहिए कि उन्होंने बदलाव को बहुत धीरे-धीरे आने दिया है। पतलून सिलाने के बाद भी अपनी लुंगी को खूँटी पर टाँगे रखा और टी शर्ट के आ जाने को बाद भी गंजी का परित्याग नहीं गया। अंग्रेज़ी भाषा को भोजपुरी के फार्मेट में स्वीकार किया। हिन्दी को भोजपुरी पर हावी होने नहीं दिया।
आरा के बारे में ये सब बातें टीवी पत्रकार रवीश कुमार ने 10 फरवरी 2017 को अपने ब्लॉग पर पोस्ट की थीं। रवीश का ज़िक्र इसीलिए क्योंकि फिल्म अनारकली ऑफ ऑराके क्रेडिट में पहला नाम उन्हीं का आता है। पता नहीं उनका इस फिल्म से या फिल्म के डायरेक्टर अविनाश दास से कितना गहरा नाता रहा मगर आरा के बारे में ये सब फिल्म में कहीं नहीं है। रवीश आगे लिखते हैं -
‘’इस फ़िल्म से एक नया आरा सामने आएगा? मुझे नहीं पता कि अनारकली आरा पर ग़ज़ब ढाएगी या क़हर ढाएगी लेकिन इतना पता है कि आरा आगे निकल चुका है। वो अब लड़ाकू नहीं,पढ़ाकू शहर है।’’

एक नया आरा अविनाश दास ने दिखलाया तो है, मगर वो न तो पढ़ाकू दिखता है, न लड़ाकू। अविनाश दास का आरा एक ठरकी शहर है। जहां के सारे पढ़ाकू छात्र अनारकली का नाच देखते हैं, उन छात्रों के भविष्य का मालिक वाइस चांसलर नाच के वक्त दारू भी पीता है और स्टेज पर चढ़कर अनारकली को छेड़ता है, थप्पड़ खाता है। इस तरह से फिल्म को देखें तो आरा शहर को अविनाश दास के खिलाफ मानहानि का मुकदमा कर देना चाहिए। आरा टाउन थाना के दारोगा को तो अविनाश दास को जेल में डाल देना चाहिए। फिल्म बनाने की छूट में एक पूरे शहर को इस तरह बदनाम कर देना ठीक बात नहीं।
मगर अविनाश दास दुनिया को शायद इसी तरह देखते हैं। यही उनकी ख़ूबी है। यही उनका परिचय। उनका अपना पक्ष इतना लाउड है कि कोई और पक्ष बौना ही नज़र आता है उनके सामने। इस तरह से फिल्म पर अविनाश दास की पकड़ भी ज़बरदस्त है। वो फिल्म को अपनी कल्पना के हिसाब से आगे ले जाते हैं। सभी स्थापित सत्ता-केंद्रों पर हमला बोलते हुए। एकदम लाउड।
फिल्म की कहानी बहुत छोटी है, मगर गीत-संगीत ने उसे संवार दिया है। फिल्म में आरा जितना द्विअर्थी और बुरा नज़र आता है, गीत उतने ही तरल और पवित्र सुनाई देते हैं। रोहित शर्मा का संगीत लाजवाब है। कहीं से नहीं लगता कि ये अविनाश दास की पहली फिल्म है। उन्होंने इस फिल्म की बारीकियों पर बहुत मेहनत की है। जब दिल्ली के एक ढाबे में हिरामन तिवारी अनारकली से कहता है कि देश के लिए बुनिया खा लीजिए तो लगता है अनारकली को देश के लिए अपना दिल हिरामन को दे देना चाहिए। या फिर अविनाश दास को। जिनके लिए दिल्ली घूमने की शुरुआत यमुना के गंदे किनारे से भी हो सकती है।
फिल्म के डायलॉग और गाने बहुत दिनों तक याद रखे जाने चाहिए। मगर वो इतने ज़्यादा हैं कि फिल्म की छोटी सी कहानी पर भारी पड़ते हैं। फिल्म का पहला आधा घंटा तो भारी-भरकम डायलॉग्स और लोकगीतों का चित्रहार जैसा है, जिसमें कहानी अचानक से एंट्री मारती है। हिंदी फिल्मों को अनारकली ऑफ आरासे क्या मिला पता नहीं, मगर भोजपुरी सिनेमा को इस फिल्म के सामने कान पकड़कर माफी मांगनी चाहिए। याद नहीं मुझे कि हाल की कोई भोजपुरी फिल्म इस तरह के सरोकारों के साथ सफलता से आई हो। फिल्म का आखिरी शॉट जहां अनारकली हिसाबबराबर कर कैमरे की तरफ अकेली लौट रही है, न्यू फ्रेंच सिनेमाके क्लाइमैक्स की याद दिलाता है। भोजपुरी के निर्देशकों को भी ये सब सीखना चाहिए।
फिल्म अनारकली पर इतना फोकस करती है कि बाकी सब कुछ गायब हो जाता है। ये नई तरह की फिल्मों में ज़रूरी भी है। अपनी बात को इतना मज़बूती से कहो कि लगे कुछ कहा है। नये निर्देशक ऐसे ही जमते हैं। नई फिल्में ऐसे ही याद रह पाती हैं।
चलते-चलते –
मैं दिल्ली के जिस हॉल में फिल्म को देखने गया था वहां फिल्म लगी तो थी मगर फिल्म का एक भी पोस्टर नहीं था। इस तरह से बिना पोस्टर वाली कोई फिल्म अपने दम पर दूसरे हफ्ते में प्रवेश कर जाए तो बधाई की हक़दार है। मेरे मित्र दिलीप गुप्ता को अनारकली फिल्म में एक्टिंग भी नसीब हुई है, और अनारकली की चप्पलें भी। उनको अलग से बधाई।

निखिल आनंद गिरि

गुरुवार, 9 मार्च 2017

पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन : देश घंटा बदल रहा है

पुरानी दिल्ली मेट्रो स्टेशन पर 7 मार्च की रात जिस तरह का मानसिक टॉर्चर मैंने झेला, वो किसी न किसी भले आदमी को रेल मंत्रालय तक ज़रूर पहुंचाना चाहिए। ये छोटी-सी आपबीती उसी की कोशिश भर है।
 
जयनगर से चली शहीद एक्सप्रेस में समस्तीपुर से मेरे कुछ घरेलू सामान की पार्सल बुकिंग थी। यहां जो ट्रेन दोपहर के बारह बजे पहुंचनी थी, रात के साढ़े ग्यारह बजे पहुंची। पार्सल छुड़वाने का कोई अनुभव नहीं होने के कारण मैं क़रीब तीन घंटे पहले से वहां पहुंचकर पार्सल ऑफिस के आसपास के चक्कर काट रहा था। बताया गया कि आजकल मामला डिजीटल है, तो ट्रेन से सामान उतरते ही प्लैटफॉर्म से ही ले जाया जा सकता है। प्लैटफॉर्म वाला बाबू अपनी इलेक्ट्रॉनिक एंट्री करेगा। फिर प्लैटफॉर्म से कोसों दूर स्टेशन के किसी सुदूर हिस्से में पार्सल ऑफिस के काउंटर से एक गेट पास बनाकर सामान रिलीज़ कराया जा सकता है। इसी उम्मीद से जब ट्रेन आई और मेरा सामान दिखा तो मैंने ठीक ऐसा ही किया। प्लैटफॉर्म वाले बाबू (बूढ़े बाबा) ने अपना काम तुरंत कर दिया तो पार्सल ऑफिस की तरफ दौड़ा। वहां जो बीती वो बताने लायक तो है, भुगतने लायक नहीं।
 
एक बुज़ुर्ग हरियाणवी मैडम आधी रात की ड्यूटी में थीं (अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर इसे नोट किया जाना चाहिए)। वो समय से दस मिनट पहले आ गई थीं तो अपने साथी पार्सल बाबूकी आखिरी फाइल वर्क निपटाने में मदद कर रही थीं। जो पोर्टर उनके सामने क्लियरेंस के लिए खड़ा था, उससे पूरे पारंपरिक तरीके से 100-100 रुपये बांट रही थीं। मैंने बहुत ही विनम्रता से आधी रात का हवाला देते हुए मेरा गेट पासबनाने को कहा तो बोलीं घोड़े पर सवार होकर आया है के, अभी तो ड्यूटी शुरु भी नहीं हुई मेरी। मैं आधे घंटे तक उनकी ड्यूटी शुरू होने का इंतज़ार करता रहा। घूमकर आया तो देखा बाहर ताला लगा है। पता चला कि मैडम भीतर सोती हैं और सुबह पांच बजे से ही काम शुरू करती हैं। किसी तरह ताला खुला तो मैडम का कंप्यूटर भी खुला। वो छत्तीस बार कोशिश करती रहीं, मगर मेरे पार्सल की ठीक से एंट्री नहीं कर पाईं। मुझे ताने देती रहीं कि उन्हें रात को परेशान कर रहा हूं और फिर किसी दूसरे साथी की मदद से लगभग ढाई बजे छह सौ ज़्यादा देने पर एक पास बन सका। मैं पैसे देने का विरोध करता तो बोलीं, कौण सा हमारी जेब में जाने हैं, ये तो सरकार का पैसा है। फिर स्टेशन से कहीं जाने लायक नहीं बचा। सारी रात मैंने पुरानी दिल्ली की सड़कों पर गुज़ारी।
 
किसी का नाम लेकर नौकरी खाने की कोई मंशा नहीं है। बस बताना चाहता हूं कि ये जो रेल मंत्री अपनी रेल को वर्ल्ड क्लास क्लेम करते रहते हैं, वो दरअसल पार्सल ऑफिस तक आते-आते थर्ड क्लास हो जाती है। पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के बाहर निकलते ही दिल्ली मेट्रो के दफ्तर भी हैं, जहां एक बार इन बेकार रेलवे कर्मचारियों को सज़ा के तौर पर भेजा जाना चाहिए। एक आम यात्री की पूरी रात ख़राब होने पर न इन्हें कोई मलाल होगा, न इन्हें समझ आएगा कि ये देश का कितना नुकसान कर रहे हैं। फिर भी देश बदल रहा है’, ‘अच्छे दिनके प्रचारकों का मुंह बंद करके एक बार इन पार्सल ऑफिस तक ज़रूर भेजना चाहिए। ये हमारी राजधानी दिल्ली के एक रेलवे स्टेशन की कहानी है, जिसे आप भारत के हर हिस्से की कहानी के तौर पर देख सकते हैं। बस वो स्टेशन राजधानी से जितना दूर हो, उसके निकम्मेपन का अनुपात स्वादानुसार बढ़ाते जाइएगा।
 
अब आप राष्ट्रगान के लिए खड़े हो सकते हैं।

निखिल आनंद गिरि

बुधवार, 8 मार्च 2017

विशाल भारद्वाज को ‘रंगून’ हो जाए तो बचना मुश्किल है

रंगून मैंने गुजरात के वापी शहर में देखी। मुंबई यहां से बहुत नज़दीक है, मगर सिनेमा हॉल अब भी दो-चार ही। विशाल भारद्वाज का सिनेमा देखने वाले उससे भी कम। देश की इंडस्ट्रीज़ से फैलने वाले केमिकल प्रदूषण में वापी का बहुत बड़ा योगदान है। यहां जितने गुजराती हैं, उससे ज़्यादा बिहार-यूपी के मजदूर लोग। लिहाज़ा शाहरूख-सलमान की नाच-गाने वाली फिल्मों के कद्रदान यहां ज़्यादा हैं, रंगून के बिल्कुल नहीं। रिलीज़ के दूसरे दिन ही हॉल में मुश्किल से 20-25 लोग थे।

पहले फिल्म का एक सीन। हीरोइन पर सैनिकों का हमला हुआ है और उस पार ले जाने के लिए गदहे बुलाए गए हैं। हीरोइन हीरो को गधाबुलाकर मज़ाक करती है तो हीरो बताता है कि ये गधी है। इत्तेफाक देखिए कि राजनीति के जिस गदहाकालमें गुजरात से आने वाले पीएम भी ज़ोर-शोर से लगे हुए हैं, ‘रंगूनमें भी गधे दिख गए तो अचानक ही हंसी आ गई। रंगून विशाल भारद्वाज की सबसे कमज़ोर फिल्म है। जैसे प्रकाश झा परिणति, दामुलसे होते हुए आरक्षणतक आ गए हैं, विशाल भारद्वाज भी अपने ही पुराने फॉर्मूले में उलझ गए हैं। जब फिल्म कमज़ोर पड़ने लगे, फिर गुलज़ार के गीत भी फार्मूला से ज़्यादा नहीं लगते। मेरे पिया गए इंग्लैंड, बजा के बैंड, करेंगे लैंड.. जैसे गीत गुलाल वाले पीयूष मिश्रा के गीतों का एक्सटेंशन भर लगते हैं।

ऐसा नहीं कि फिल्म में कोई कहानी नहीं है। फिल्म विशाल भारद्वाज की है तो कहानी के कई लेयर हैं। मगर इस बार एक परत देशभक्ति की भी है जो विशाल भारद्वाज का असली फ्लेवर नहीं लगता। लगता है जैसे वो किसी दबाव में फिल्म बना रहे हैं। फिल्म शुरू होने से पहले एक राष्ट्रगानऔर फिर बीच-बीच में आज़ाद हिंद फौज का राष्ट्रगान। नवाब (शाहिद कपूर) कहता है कि अपनी जान से कीमती वो होता है जिसके लिए मरा जा सके यानी देश, मातृभूमि। ये उस निर्देशक का स्टेटमेंट है जो ओंकारा, मकबूल, सात ख़ून माफमें प्यार के हज़ारों सैंपल दिखा चुका है।

इसके अलावा फिल्म में मांभी है। एक बंधक जापानी सैनिक हीरो-हीरोइन को रास्ता दिखाते हुए एक दिन इन्हें मारने को ही होता है कि रो पड़ता है। उसे सिखाया गया है कि जापान में युद्ध से हारकर ज़िंदा लौटने का रिवाज नहीं है। कोई ये नहीं मानेगा कि दुश्मनने उन्हें ज़िंदा जाने दिया। शाहिद कपूर कहते हैं कि कोई समझे, न समझे- मां समझेगी। इतना संवेदनशील सैनिक ऊपरवाला ख़ूबसूरत लड़कियों को इतना बेवकूफ क्यूं बनाता है जैसा हल्का डायलॉग मारता है तो लगता है ये व्हाट्सऐप के दौर की ही कोई फिल्म है। फिल्म के कई हिस्से बहुत भी अच्छे हैं। मगर पूरी फिल्म एक साथ अच्छी नहीं हो पाई। हिटलर की मिमिक्री, प्यार किया अंग्रेज़ी में जैसे गाने और अंग्रेज़ अफसर हार्डिंग की वो बात कि अगर कभी अंग्रेज़ हिंदुस्तान को छोड़ के गए भी तो ये दुनिया के सबसे करप्ट समाज में से एक होगा।

क्लाइमैक्स इतना लंबा है जैसे एडिटर को फिल्म काटने के बजाय रंगून भेज दिया गया हो। एक पुल है जिस पर फिल्म के पंद्रह मिनट लटके हैं। पुल के उस पार कंगना हैं। इस पार उनका पीछा कर रहे अंग्रेज़, उससे प्यार करने वाला रूसी (सैफ) और उसे देशभक्ति का दिव्य ज्ञान देने वाला आज़ाद हिंद फौज का नवाब (शाहिद)। बीच में बहुत से गोले-बारुद हैं जो सबका सबकुछ बिगाड़ सकते हैं, मगर हीरो-हीरोइन का नहीं। विलेन भी इस नाज़ुक पुल पर तभी मरेगा जब हीरो (एंटी-हीरो) उछल कर एक तलवार से उसकी गर्दन उड़ाएगा। यकीन कीजिए आप विशाल भारद्वाज जैसे निर्देशक की ये फिल्म 2017 में देख रहे हैं!


सैफ अली ख़ान पूरी फिल्म में फ्रस्ट्रेटेड नज़र आते हैं। लगता है आधे मन से एक्टिंग कर रहे हैं। शायद विशाल भारद्वाज से नाराज़ हैं कि उनका ख़ानदानी टाइटल नवाबफिल्म में शाहिद कपूर को दे दिया। कंगना और शाहिद ने बढ़िया एक्टिंग की है। मगर विशाल भारद्वाज ने इन्हें इश्क के नाम पर नंगे बदन से आगे नहीं जाने दिया है। ये बॉलीवुड की सीमा है, जो रंगून जाकर भी बदल नहीं पाती। 

निखिल आनंद गिरि