मंगलवार, 17 नवंबर 2015

तेरी तलाश में क्या क्या नहीं मिला है मुझे


अब अंधेरों में भी चलने का हौसला है मुझे
तेरी तलाश में क्या क्या नहीं मिला है मुझे

अभी तो सांस ही उसने गिरफ्त में ली है,
अभी तो बंदगी की हद से गुज़रना है मुझे

मेरा तो साया ही पहचानता नहीं मुझको,
कहूं ये कैसे कि ग़ैरों से ही गिला है मुझे

मैं एक ख़्वाब-से रिश्ते का क़त्ल कर बैठा
अब अपनी लाश ढो रहा हूं, ये सज़ा है मुझे

किसी ने छीन लिया जब से मेरा सूरज भी
मैं उसके नाम से रौशन रहूं दुआ है मुझे

मेरे यक़ीन से कह दो, ज़रा-सा सब्र करे,
ये रात बुझने ही वाली है, लग रहा है मुझे

निखिल आनंद गिरि

 

4 टिप्‍पणियां:

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

वाह!

SKT ने कहा…

क्या खूब!

Pooja Rana ने कहा…

बड़े दिनों बाद आपकी गज़ल पढ़ने का मौका मिला। और भी खुशी होती सर अगर इसे सुन पाते।

Pooja Rana ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.