मंगलवार, 11 जनवरी 2011

सौ बार मर गया...

इस बार कुछ उम्मीद से मैं अपने घर गया...

वीरान चेहरे देखकर, चेहरा उतर गया..


बाबूजी थे खामोश, मां अजनबी लगी,

हर एक पल में सच कहूं, सौ बार मर गया...


ज़ख्मों को देख और भी नमकीन हुए लोग,

ऐ ज़िंदगी, मैं तेरे तिलिस्मों से डर गया..


ये पीठ थी, रक़ीब के खंजर के वास्ते

शुक्रिया ऐ दोस्त, ये अहसान कर गया...


सब झूठ है कि रूह को देता है सुकूं इश्क,

मैं जिस्म तक गया, वो तल्खी से भर गया....


सर्दी पड़ी, अमीरी रज़ाई में छिप गई...

फिर मौत का इल्ज़ाम ग़रीबी के सर गया...

निखिल आनंद गिरि
Subscribe to आपबीती...

10 टिप्‍पणियां:

सागर ने कहा…

सर्दी पड़ी, अमीरी रज़ाई में छिप गई.

फिर मौत का इल्ज़ाम ग़रीबी के सर गया

बांकी तो ठीक, लेकिन यह सरोकारी बात जाती नहीं...

मनोज कुमार ने कहा…

बाबूजी थे खामोश, मां अजनबी लगी,

हर एक पल में सच कहूं, सौ बार मर गया...
सशक्त रचना।

himani ने कहा…

ऐ ज़िंदगी, मैं तेरे तिलिस्मों से डर गया..
sach bhaut darati hai ye dilfaink dilfareb jindagi

Prem Chand Sahajwala ने कहा…

निखिल शेर तो सब बढ़िया हैं पर शायद बाहर का ख्याल नहीं रख पाए. और तीसरा शेर स्पष्ट नहीं है मुझे.

निखिल आनन्द गिरि ने कहा…

बहर की तो समस्या है ही प्रेम अंकल,आप थोड़ा कस दीजिए शेरों को...अच्छा रहेगा...तीसरा शेर इतना मुश्किल तो नहीं लग रहा मुझे...

Rashmi savita @ IITR ने कहा…

बाबूजी थे खामोश, मां अजनबी लगी,

हर एक पल में सच कहूं, सौ बार मर गया...
mujhe to ye line touching lagi..... aapko padhna achha lagta hai...

aur aap hamare blog par bhi kabhi aaiye!

नीरज बसलियाल ने कहा…

sheer brilliance

निखिल आनन्द गिरि ने कहा…

Rashmiji,zarur aayenge aapke blog par...shukriya neeraj ji ko bhi

nandan ने कहा…

बहुत बढ़िया भाई

sagebob ने कहा…

bhai likha to aapne achha hai lekin pehle do ashaar ko hi aage badha paate to aur bhi achha hota............regards......bob