बुधवार, 15 फ़रवरी 2012

एक सूरज टूट कर बिखरा पड़ा है...

सीने में जलन, आंखों में तूफान-सा क्यों है...
एक शायर मर गया है,
इस ठिठुरती रात में...
कल सुबह होगी उदास,
देखना तुम....

देखना तुम...
धुंध चारों ओर होगी,
इस जहां को देखने वाला,
सभी की...
बांझ नज़रें कर गया है....
... एक शायर मर गया है....

मखमली यादों की गठरी
पास उसके...

और कुछ सपने पड़े हैं आंख मूंदे....
ज़िंदगी की रोशनाई खर्च करके,
बेसबब नज़्मों की तह में,
चंद मानी भर गया है.....
एक शायर मर गया है....

एक सूरज टूट कर बिखरा पड़ा है,
एक मौसम के लुटे हैं रंग सारे....
वक्त जिसको सुन रहा था...
गुम हुआ है...
लम्हा-लम्हा डर गया है....
एक शायर मर गया है...
इस ठिठुरती रात में....

(एक पुरानी नज़्म, शहरयार साहब की यादों के साथ दोबारा पढ़ें)

7 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

एक और क्लासिकल ...
आपकी क़लम से!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ओह ... बहुत गहन भाव लिए हुये नज़्म

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

प्रभावशाली नज़्म...
शहरयार जी को सादर श्रद्धांजली.

Dr.Nidhi Tandon ने कहा…

विनम्र श्रद्धांजलि !!

Atul Shrivastava ने कहा…

बेहतरीन... बेमिसाल... लाजवाब।
श्रध्‍दासुमन....

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

बेहतरीन नज्म..

बेनामी ने कहा…

First off I would like to say awesome blog!
I had a quick question that I'd like to ask if you do not mind.
I was interested to find out how you center yourself and clear your thoughts prior
to writing. I have had a difficult time clearing my mind in getting my thoughts out.
I truly do enjoy writing however it just seems like the first 10 to 15
minutes are generally lost simply just trying to figure
out how to begin. Any ideas or hints? Appreciate it!


my site; Heel Pain treatment