रविवार, 8 जनवरी 2017

जितना संभव था

जितना संभव था
बचाया जाना चाहिए था।

जीने के लिए सांसें,
प्रेम के लिए मौन
जगमग रातों के लिए अंधेरे
मौन अपराधों के लिए क्षमा।

शोर में बचायी जानी थी
एंबुलेंस के सायरन की आवाज़
ब्रह्मांड में रोने की आवाज़
शहर के लिए हरियाली
और कम से कम एक थाली
या निवाला भर ही
चिड़ियों के लिए।

बचाने को बचायी जा सकती थीं सब स्मृतियां
कम से कम कुछ इमारतें ही
जिन्हें बुलडोज़रों के आगे घुटने टेकने पड़े।

सड़क पर पैदल चलने की जगह
बूढ़ी महिला के लिए हर डिब्बे में एक सीट
भीड़ में थोड़ी विनम्रता
हरे-भरे पार्क शहरों में
जहां पढ़े जा सकें असंख्य प्रेम गीत।

वर्णमाला के कुछ अक्षर भी बचाए जाने थे
कम से कम हलंत या विसर्ग ही।
हाशिये बचाये जाने थे कागज़ों पर
जितना संभव था कागज़ भी।

बहुत अधिक व्यस्त या क्रूर समय में से
थोड़ा-सा समय
निर्दोष बच्चों के लिए।
या इतना तो बचाया ही जा सकता था समय ;
कि बचा पाना सोचते उतना
जितना संभव था।

हिंदी मैगज़ीन 'तद्भव' में प्रकाशित) 
निखिल आनंद गिरि

कोई टिप्पणी नहीं: