गुरुवार, 29 दिसंबर 2016

‘डियर 2016’ के ‘दंगल’ में ‘उड़ता’ बॉलीवुड

साल 2016 में मेरे सिनेमा देखने की शुरुआत एक ऐसी फिल्म से हुई जिसका पहला शो देखने लगभग पांच-छह लोग आए थे। ये फिल्म थी चौरंगाजिसे मेरे कॉलेज के डबल सीनियर (जमशेदपुर और जामिया) बिकास रंजन मिश्रा ने बनाई थी। फिल्म में नाम बड़ा नहीं था, इसीलिए एक बेहतरीन कहानी भी एकाध शो बाद ही भुला दी गई। समाज की लगभग हर समस्या का कॉपीबुक ट्रीटमेंट थी चौरंगाजैसे आप कोई फीचर फिल्म नहीं, किसी फिल्म स्कूल के स्टूडेंट की डिप्लोमा फिल्म देख रहे हों। फिल्म के शुरुआती क्रेडिट्स में ये बताया जाना कि ये एक हिंदी नहीं खोरठा फिल्म है, मेरे लिए पहला अनुभव था।
वज़ीरअमिताभ बच्चन के लिए एक और शानदार फिल्म रही। कोरियन फिल्म मोंटाजमैं देख चुका था इसीलिए इसकी हिंदुस्तानी नकल में मेरी कोई ख़ास दिलचस्पी नहीं थी। फिर भी महिला मित्र के साथ हॉल जाने का सुख मैं कभी मिस नहीं करता।
साला खड़ूसऔर मस्तीज़ादेएक ही भाषा में अच्छी-वाहियात फिल्मों के विलोम की तरह एक ही हफ्ते में रिलीज़ हुए। मैंने दोनों देखी और अपना विश्वास मज़बूत किया कि राजनीति से लेकर नई हिंदीके लेखक हों या हिंदी फिल्में, सनसनी हो तो दर्शक, पाठक या मतदाता सब जेब में होते हैं। फितूरएक ओवररेटेड फिल्म साबित हुई और अगर ये 1990’s के दौर में आती तो कुमार सानू जैसा कोई सिंगर इसे हिट करा सकता था। नीरजाएक शहीद एयर होस्टेस की सच्ची घटना पर आधारित फिल्म थी और ठीकठाक बनी थी।
हंसल मेहता की अलीगढ़साल की सबसे अलग फिल्म रही मगर दर्शक इसे भी नहीं मिले। ऐसी फिल्मों से बॉलीवुड का क़द पता चलता है। की एंड कामुझे एक मैच्योर फिल्म लगी और मुझे फिर लगा कि मल्टीप्लेक्स का दर्शक ही आने वाले वक्त का सिनेमा तय करता रहेगा। शाहरूख की फैनएक अलग कोशिश तो थी मगर अंत तक आते-आते आप शाहरुख के फैन होने की बजाय किसी पंखे से लटक जाना पसंद करेंगे।
अश्विनी तिवारी की नील बट्टे सन्नाटाने इस साल सबसे अधिक चौंकाया। एक मां और बेटी एक ही स्कूल की एक ही क्लास में पढ़ने जाते हैं। ये सोच कर ही फिल्म देखने का मन कर जाएगा। एक शानदार फिल्म को बार-बार देखा जाना चाहिए। ऐसी गंभीर फिल्म उसी वक्त में हिट होती है जब सनी लियोनी की वन नाइट स्टैंडको भी ठीकठाक दर्शक मिलते हैं। इमरान हाशमी अज़हरमें कॉलर तो सही उठाते रहे मगर फिल्म मीठा-मीठा सच का जाल बनाती रही और उलझ कर रह गई। एक और भारतीय कप्तान धोनीभी इसी साल पर्दे पर उतारे गए और अज़हर से ज़्यादा इमानदारी से उतारे गए।   
धनकनागेश कुकनूर स्टाइल की एक और बेहतरीन फिल्म थी। हालांकि मैं अपने परिवार के जिन बच्चों के साथ फिल्म देखने गया था उन्हें बजरंगी भाईजान भी बच्चों की ही फिल्म लगती है, इसीलिए इस फिल्म का पसंद न आना लाज़मी था। तीन’, ‘रमन राघव-2’ एक्टिंग पर आधारित फिल्में रहीं जिन्हें देखने में पैसे बर्बाद नहीं हुए।
इन सबसे अलग 2016 को याद रखा जाना चाहिए उड़ता पंजाबके लिए। भविष्य में हम किस तरह का सिनेमा चाहते हैं, ये फिल्म उस का एक बयान समझा जाना चाहिए। फिल्म की बहादुरी इसी में समझ आनी चाहिए कि सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म पर तलवार जितनी कैंची चलाई, एक दिन पहले फिल्म लीक भी कर दी गई और फिर भी लोग सिनेमा हॉल तक देखने पहुंचे।
आशुतोष गोवारिकर की मोहनजोदड़ोउनके फिल्मी करियर का बड़ा रिस्क थी। एक तरह की चेतावनी भी कि हर बार एक ही फॉर्मूला लगाने से लगाननहीं बनती। फिल्म में ग्लैमर ज़्यादा था और इतिहास कम इसीलिए वर्तमान के दर्शक उसे ज़्यादा पचा नहीं पाए। मुदस्सर अज़ीज़ की फिल्म हैप्पी भाग जाएगीएक नई तरह की कॉमेडी थी। लड़की अपनी शादी से भागकर जिस ट्रक में कूदती है, उसे सीधा पाकिस्तान पहुंचना होता है। इस तरह पाकिस्तान से रिश्ते तीन घंटे मीठा बनाए रखने के लिए फिल्म का योगदान नहीं भुलाया जा सकता।
साल 2016 के सितंबर का महीना बॉलीवुड के लिए सबसे अच्छा रहा जब पिंक और पार्च्ड जैसी दो साहसी फिल्में पर्दे पर आईं।आने वाले समय में इन फिल्मों को पूरे दशक की सबसे अच्छी फिल्मों में भी गिना जाए तो मुझे ताज्जुब नहीं होगा।
डियर ज़िंदगीइस साल की उपलब्धि कही जा सकती है। सिर्फ इसीलिए नहीं कि फिल्म अच्छी है, मगर इसीलिए भी भी कि शाहरूख अपनी उम्र के हिसाब से रोल करने लगे हैं। आप आलिया भट्ट की तारीफ में इस फिल्म पर बहुत कुछ पढ़ चुके हैं। मगर ये कहानी अकेलेपन के डॉक्टर जहांगीर खान की भी थी। जिनके पास दुनिया को ठीक करने की दवा तो होती है, उनकी अपनी दुनिया बहुत बीमार होती है। क्या हम सब ऐसे ही नहीं होते जा रहे। अकेले लोगों का ऐसा समाज जिनका इलाज किसी छप्पन इंच के डॉक्टर के पास नहीं।

दंगल इस साल की आखिरी बड़ी हिट थी। हिट नहीं भी होती तो भी इस फिल्म का चर्चा में आना तय था। ये फिल्म हमें आश्वस्त करती है कि 16 दिसंबर वाली भयानक राजधानी दिल्ली के बहुत पास लड़कियां समाज के अखाड़े में ख़ुद को बारीकी से तैयार भी कर रही हैं। इसीलिए समाज को थोड़ा विनम्र और महिलाओं के प्रति थोड़ा भावुक हो जाना चाहिए। 

निखिल आनंद गिरि

रविवार, 25 दिसंबर 2016

सरकारी खेल एकेडमियों को कान पकड़कर 'दंगल' देखनी चाहिए

ये 'अंबा सिनेमा' है, कोई ATM नहीं!! 
दिल्ली के घंटाघर इलाके का अंबा सिनेमा दिल्ली से विलुप्त होते सिंगल स्क्रीन थियेटर की आखिरी निशानी की तरह ज़िंदा है। और इसे ज़िंदा रखने के लिए मजबूरी में किसी गंदी भोजपुरी फिल्म या कांति शाह का सहारा नहीं लेना पड़ता। यहां आमिर खान की दंगल लगती है और वो भी हाउसफुल। दंगल के प्रोमो वाले पोस्टर पर जिस तरह म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के?’ लिखा पढ़ता था तो लगता था एक ऐसी कहानी जिसे एक लाइन में समझा जा सकता है, उसके लिए पैसे क्यूं खर्च करने। फिर भी आमिर खान के बहकावेमें आ गया और फिल्म देखने के लिए अंबाजैसी मज़ेदार जगह ढूंढी।
कैशलेस के ज़माने में फ्रंट, रियर और बाल्कनी के लिए टिकट खिड़कियों में लाइन लगकर नोट लहराते लोगों के बीच में मैंने जब जानबूझकर पूछा कि दंगल देखने के लिए इतनी भीड़ क्यूं है तो एक ही जवाब आया आमिर खान। हॉल इतना हाउसफुल था कि भीड़ को संभालने के लिए पुलिस लगानी पड़ी। अंधेरे में सीट ढूंढते हुए जैसे-तैसे टॉर्च वाले भाई तक फ्रंट वाली टिकट लेकर पहुंचा तो राष्ट्रगान शुरू हो गया और जो जहां था, वहीं रुक गया। फिर मेरे राष्ट्रगान से प्रभावितहोकर टिकट चेक करने वाले भाई ने मुझे चुपके से पीछे की तरफ भेज दिया जहां के टिकट की क़ीमत दोगुनी थी।


दंगल विशुद्ध रूप से भारतीय फिल्म है। किसी विदेशी दर्शक को आप ये फिल्म दिखाएंगे जहां लिंग जांच की अनुमति है, तो वो समझ ही नहीं पाएगा कि एक बाप लगातार लड़की पैदा होने से इतना दुखी क्यूं हो जाता है। मगर ये लड़कियां कॉमनवेल्थ 2010 की हीरो रही कुश्ती चैंपियन गीता कुमारी फोगाट और उनकी बहन बबीता फोगाट हैं और उनके जन्म पर मायूस होने वाले उनके पिता महावीर फोगाट जिनके लिए बेटे का मतलब देश के लिए एक गोल्ड मेडल जीतने वाला पहलवान है। फिल्म का पहला हाफ इतना बेहतरीन है कि आप अपनी सीट पर बैठ ही नहीं पाते। अंबा सिनेमाका हर दर्शक गीता फोगाट के साथ रोहतक का पहला दंगल लड़ रहा होता है जहां वो पहली बार लड़कों से पहलवानी करती है। हर दांव पर उछल-उछल कर सीटियां बजा रहा होता है जहां वो लड़कों से जीत रही होती है और बचे हुए मर्द पहलवान गीता की कुश्ती देखकर दुआएं कर रहे होते हैं कि अच्छा हुआ बच गए वरना थैली में भरकर घर जाते। उम्मीद है दिल्ली और हरियाणा और तमाम देश ऐसी फिल्मों की कुछ सीटियां बचाकर अपने परिवारों में भी लाएगा जहां बेटियों को बेटियां समझकर ही सम्मान दिया जाए।
फिल्म का दूसरा हाफ थोड़ा बोरिंग है। बहुत नाटकीय भी। पूरी-पूरी कुश्ती का सीधा प्रसारण है। गीता जब कॉमनवेल्थ का फाइनल खेल रही होती है, तो उसके पिता को एक कमरे में बंद कर दिया जाता है। फिर जहां से उसकी आवाज़ बिल्कुल बाहर नहीं जाती, राष्ट्रगान की आवाज़ अंदर आती है और वो समझजाते हैं कि अंबा सिनेमाका दर्शक गोल्ड मेडल जीतने वाली गीता के सम्मान में खड़ा हो गया होगा। बहरहाल, भारतीय कुश्ती संघ को इस फिल्म को ध्यान से देखना चाहिए और सोचना चाहिए कि उसके कोच क्या सचमुच इतने बेकार रहे हैं। अगर हमारे सभी स्कूल, कॉलेज, ट्रेनिंग संस्थानों के कोच या टीचर सिर्फ नाम भर के हैं तो देश के रहनुमाओं को गंभीरता से समझना चाहिए कि करोड़ों की आबादी गुमराह हो रही है।
फिल्म में अमिताभ भट्टाचार्य के गीत बहुत प्यारे हैं। फिल्म का सेंस ऑफ ह्यूमर और भी अच्छा है। नेशनल स्पोर्ट्स एकेडमी की पहलवान लड़कियां शाहरुख की फिल्म देखने के लिए जुटने लगती हैं और गीता नहीं जाती तो उसकी दोस्त कहती है –शाहरूख को ना नहीं कहते, पाप लगता है। फिर सब मिलकर ‘DDLJ’ देखती हैं कि कैसे शाहरूख एक लड़की के पलटने पर प्यार होने का सही गेस मारता है। इस तरह आमिर खान अपनी फिल्मों में साफ कर देते हैं कि क्यूं उनके कुत्ते का नाम शाहरूखहै।

दंगल की रिलीज़ से ठीक पहले आमिर ख़ान को मजबूरी में नोटबंदी की तारीफ तक करनी पड़ी। अगर इतना करने भर से उन्होंने एक अच्छी फिल्म की रिलीज़ के सारे ख़तरे टाल दिए, तो उन्हें एक ही गोल्डन शब्द कहना चाहिए साब्बाश

निखिल आनंद गिरि

बुधवार, 21 दिसंबर 2016

नोटबंदी पर कुछ नोट्स - YearEnder

दिल्ली मेट्रो के दफ्तर के पास एक बैंक अपनी नोटों की गाड़ी लेकर आया था ताकि कर्मचारियों को नोटबंदी से राहत मिल सके। मैं तीन घंटे की लंबी लाइन के बाद जब सबसे आगे पहुंचा तो बिल्कुल हीरो की तरह अपना कार्ड आगे किया। वो एटीएम कार्ड नहीं, मेरा मेट्रो स्मार्ट कार्ड था। डेबिट कार्ड पता नहीं कहां छूट गया था। पीछे की लंबी लाइन देखकर आगे से हटने की हिम्मत नहीं हो रही थी। सारी जेबों में लाइट की स्पीड से ढूंढने पर एटीएम कार्ड मिला तो लगा किसी जानलेवा दुर्घटना से बच गया। ऐसी भूल लाइन में लगा हुआ हर भारतीय कर सकता है। लाइन में लगना शायद ही किसी नागरिक की प्राथमिकता हो। वो या तो अपना ऑफिस छोड़ कर आया है, या किसी बेहद ज़रूरी काम को टालकर या फिर अपने मालिक का कार्ड लेकर लाइन में खड़ा है।

नोटबंदी पर तमाम तरह के  अच्छे-बुरे ओपिनियन सुनता रहता हूं। हो सकता है किसी छोटे शहर में स्थिति कम बुरी भी हो, मगर मानने का मन नहीं करता। रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया से पैदल की दूरी पर है कनॉट प्लेस। यहां भी एटीएम में पैसे नहीं हैं। जहां है वहां इतनी लंबी लाइन है कि बिहार से आए हम जैसे मामूली लोगों का दम फूलने लगता है। हमने बचपन से इतनी लाइनें देखी हैं कि कहीं सिर्फ चार-पांच लोग ही एटीएम की लाइन में खड़े हों तो भरोसा ही नहीं होता कि वहां पैसे होंगे। ये उस एटीएम के खिलाफ नहीं, इस सरकार के खिलाफ विश्वास समझा जाए।

तमाम मीडिया चैनल्स, अखबार आजकल टॉप टेन, टॉप 50 जैसे इयर-एंडर में लगे होंगे। मेरा दावा है कि नोटबंदी की लाइनों के भी टॉप टेन किस्से ज़रूर शामिल किए जाएं। हर किस्से के बाद राष्ट्रगान चलाया जाए। भयानक टीआरपी आएगी। जितनी लाइनें हैं, उतने किस्से हैं।

बाराखंभा रोड पर सौ लोगों की लाइन से आगे पहुंचते-पहुंचते एक सज्जन जब एटीएम के मुंह तक पहुंचे तो कार्ड का पिन नंबर ही भूल गए। अब वहीं अपनी पत्नी से पूछने लगे। पत्नी कोई डायरी खोजने लगी। फिर उनके घर कोई कूरियर वाला आ गया। और यहां लाइन में पीछे लोग राष्ट्रगान’ गाने लगे। समझ गए ना..
एक माली अपने दूसरे रिक्शेवाले भाई के साथ लाइन में सौवें नंबर पर खड़ा था। अचानक पर्स खोला तो उसका एटीएम कार्ड ज़रा-सा टूटा हुआ था। उसने रिक्शेवाले भाई से इस कार्ड के चलने-न चलने पर एक्सपर्ट ओपिनियन मांगी। दूसरे वाले भाई ने भी आरबीआई गभर्नर की तरह बढ़िया सुझाव दिया कि किस तरह से अंदर घुसाने पर काम कर जाएगा।  

कभी-कभी सोचता हूं कि कवियों, शायरों का इस नोटबंदी में क्या हाल होगा। क्या उनके लिए कविताओं में एटीएम की मशीन चांद का टुकड़ा नज़र आता होगा। क्या नोट की भूख अब पेट की भूख से ज़्यादा बड़ा सवाल होने लगी होगी। फटाफट प्रेम के ज़माने में नोटबंदी ने हम सबको ठहर कर सोचने के लिए मजबूर कर दिया है। हम एक-दूसरे को समय देना भूल गए हैं। तो सरकार इस तरह से एक अच्छे गुण को दोबारा हमारे भीतर रोपना चाहती है। इन दिनों कई घंटे लेट चल रही ट्रेनें भी हमसे हमारा ख़ूब समय मांगती हैं। इसके लिए सरकार की जितनी तारीफ की जाए कम है। बाक़ी जो है, सो तो हइये है।


चलते-चलते - एक आदमी एटीएम की कतार में तीन घंटे खड़ा होकर अपने आगे खड़े आदमी को बोलकर गया कि भाई थोड़ी देर में लौटता हूं। फिर पास ही पीवीआर में पिक्चर देखने चला गया और जैसे ही आराम से बैठने को हुआ, वहां राष्ट्रगान शुरु हो गया। आप बताइए उसे खड़ा होना चाहिए या अपने हिस्से की देशभक्ति का दैनिक कोटा वो पूरा कर चुका है।

निखिल आनंद गिरि

सोमवार, 19 दिसंबर 2016

बेचारा

सड़क नौ फीट चौड़ी थी। तीन फीट की नाली थी जिसमें पानी के सिवा सब कुछ था। चिप्स, कुरकुरे की थैलियां, बैन हो चुके प्लास्टिक, सड़ी-गली सब्ज़ियां, कांडम के पैकेट और क्विंटल भर बदबू। मोहल्ला आठ बजे सोकर उठता था, इसीलिए नाली-वाली ठीक कराने की फुर्सत किसी को नहीं थी। यानी सिर्फ छह फीट की गली थी सड़क के नाम पर। और एक बजबजाती हुई नाली। सुबह नौ से ग्यारह के बीच ऑफिस जाने का समय होता तो ये मामूली गली ट्रैफिक जाम के मामले में किसी मुख्य सड़क से बीस पड़ती थी। गाड़ियों की पों-पों, तू-तू, मैं-मैं, गाली-गलौज के बीच जैसे-तैसे गाड़ियां और वक्त सरकते थे।
ये देश की राजधानी दिल्ली का जनकपुरी इलाका था जहां तीन मंज़िलों वाले ज़्यादातर घरों के मालिक प्रॉपर्टी डीलर थे और किराएदार किसी कॉल सेंटर या एमएनसी में शिफ्ट के हिसाब से खटने वाले कर्मचारी। इसी गली का सबसे बड़ा मकान चरणजीत बावा का था। नब्बे गज़ की इस तीन मंज़िला इमारत की कीमत लोग करोड़ों में बताते थे। हालांकि बिल्डिंग के भीतर हर फ्लोर पर दीवीरें झड़ने लगी थी और दरवाज़े बंद होने पर बहुत डरावनी आवाज़ें निकालते थे। भूकंप आता तो बावा की बिल्डिंग के सभी लोग पार्क में सबसे पहले भाग आते। चुनाव प्रचारों में अच्छे दिनों के नारे सबसे ज़्यादा लगते मगर प्रॉपर्टी डीलरों के लिए ये सबसे बुरे दिन थे। इतने बुरे दिन थे कि अगर ग्राउंड फ्लोर के ऊपर दो-दो फ्लोर खड़े होते तो इन अपढ़, बदमिज़ाज डीलरों को दिल्ली धक्के मारकर बाहर निकाल देती।
बावा के किराएदारों में से एक था टुन्नू। पढ़ा-लिखा, दुबला, गोरा रंग। एसी कंपनी में बतौर मैनेजर काम करने वाले टुन्नू का असली नाम था तुषार शर्मा। मगर बावा उसे अधिकार से टुन्नू ही बुलाता था। जनकपुरी से बाहर की दिल्ली या दुनिया का पता बावा को टुन्नू से ही मिलता था। बावा के घर में हर फ्लोर पर एसी टुन्नू की बदौलत ही था। मार्केट रेट से काफी कम में टुन्नू ने ये एसी दिलवाए थे। इसके अलावा बावा के बिजली का बिल, टेलीफोन का बिल सब घर बैठे टुन्नू के स्मार्टफोन से जमा हो जाया करता। कभी-कभी मार्केट से दूध, ब्रेड, दवाइयां लाने की ज़िम्मेदारी भी टुन्नू के जिम्मे ही थी। वो बावा के लिए था तो ओए बिहारीही मगर घर का हिस्सा ही था। बदले में किराए में किसी रियायत की उम्मीद टुन्नू को थी, मिली। ग्राउंड फ्लोर के अपने कमरे से कभी टुन्नू थर्ड फ्लोर तक भी नहीं गया, जहां बावा एंड फैमिली रहते थे। हां, कभी-कभी बावा की बीवी नीचे उतरकर दरवाज़ा खटखटा कर परौंठेदे जाती थी। उसके कमरे में अक्सर बिस्तर से लेकर कुर्सी तक कपड़े सूख रहे होते और गीलेपन की ऐसी बदबू आती जैसे जनकपुरी के सी-ब्लॉक की नाली उसके कमरे से होकर गुज़रती हो। ऐसे में जब बावा की बीवी, जिसे टुन्नू आंटी कहता, नाक सिंकोड़कर कहती, बेटा, वैसे तो थैंकयू। लेकिन तेरे कमरे से बदबू क्यूं आती है इतनी। बेटा, बुरा मत मानना लेकिन तुम बिहारियों ने ठीक से रहना नहीं सीखा दिल्ली आकर। इतना सुनकर टुन्नू के हाथ में परौंठे कूड़ा लगने लगते मगर थक-हारकर ऑफिस से लौटकर आने के बाद मुफ्त में मिले परौंठे का स्वाद उसे बेवकूफ आंटी की बातों को निगल जाने में मदद करता। आंटी की लानतें सुनने के बावजूद टुन्नू की इनायतें बावा परिवार पर कम हुईँ और आंटी के परौंठे।
ऐसे ही एक रोज़ बावा की बीवी टुन्नू से मिन्नत करने आई थी कि ऑफिस से लौटकर उनकी बेटी चिन्नी को थोड़ा पढ़ा दिया करे। बदले में रात का खाना उसे बावा की रसोई से मिलता रहेगा। चिन्नी की मां बोली, ‘’बेटा, चिन्नी के इम्तिहान करीब हैं और बारहवीं पास करने का ये आखिरी मौका है। तेरे बावा अंकल ने जहां भी चिन्नी के रिश्ते की बात की, बारहवीं फेल बताने में बहुत बुरा लगता है। तू कोई बाहर का आदमी थोड़े ही है। थोड़ा टैम निकाल कर पढ़ा दिया कर। एक-दो महीने की बात ही तो है। और फिर चिन्नी तेरी छोटी बहन ही तो है।‘’ शुक्र था कि चिन्नी अपनी मां के साथ नीचे नहीं आई थी। वरना टुन्नू को आंटी की ये छोटी बहन वाली बात बड़े सदमे की तरह लगती। जैसे-तैसे उसने कहा, जी आंटी, मैं कोशिश करता हूं। कल से भेज दीजिए
टुन्नू जब शाम की शिफ्ट के बाद थका-हारा लौटता तो बावा नशे में होता। टुन्नू का दरवाज़ा खुलने के साथ आवाज़ें करता तो बावा की आवाज़ ऊपर के फ्लोर से ही आने लगती। ओये टुन्नू, ये अच्छे दिन की सरकार कितने दिन रहेगी, हमारी नाली तो बनती नहीं। ये एजुकेशन मिनिस्ट्री टीवी एक्ट्रेस को दे दी। फिर तेरे जैसे पढ़े-लिखे लोग क्या करेंगे। ओय हमारा बिजली का बिल इस बार ज़्यादा क्यों आया है, एक कम्प्लेन ठोंक डाल बावा के नाम से।
ये रोज़ का राग अनसुना कर टुन्नू अपना खाना बनाने की तैयारी कर रहा होता तो दरवाज़े पर परौंठे की महक जाती। फटाफट दरवाज़े के बाहर से भीतर दिख सकने भर की जगह को लात से ठीक करते टुन्नू ने आंटी की कड़वी बातों को पचाने का हौसला जुटाकर दरवाज़ा खोला तो देखा कोई लड़की खड़ी है। ये बावा की लड़की चिन्नी थी। आंखें मटर जैसी गोल थीं और शरीर की चिकनाई भी किसी कश्मीरी झील जैसी थी। उसके सामने हाफ पैंट और बनियान में खड़ा टुन्नू फटाफट दरवाज़े के भीतर टंगी शर्ट टांगता हुआ बोला, सॉरी, मुझे लगा आंटी हैँ। चिन्नी बोली, भैया, ये परौंठे मैंने बनाए हैं। मम्मीजी आज भंडारे में गई हैं। पापा भी एक घंटे में लौटेंगे। तो मैंने सोचा परौंठे दे आऊं।‘’ चिन्नी की आवाज़ सूरत से बिल्कुल मेल नहीं खाती थी। बोलने का अंदाज़ भी ऐसा जैसे बिहार की ट्रेनों में बेटिकट सफर करने वालों से मगरूर टीटी बात करते हों। फिर भी थक-हार कर लौटे टुन्नू के दरवाज़े पर आया नया मेहमान सीधा उसके दिल के दरवाज़े तक गया था।
तीन साल से बावा के ग्राउंड फ्लोर पर रह रहे टुन्नू ने चिन्नी के बारे में बस सुना ही था। देखा कभी नहीं था। आवाज़ भी सुनी नहीं थी कभी। पूरे मोहल्ला जानता था कि चिन्नी बारहवीं में थी और पिछले दो साल से बारहवीं में ही थी। उसकी आंखें बहुत कम पलकें झपकाती थीं। बावा ने अपनी इकलौती बेटी को ग्यारहवीं के बाद घर से बाहर निकलने ही नहीं दिया था। चिन्नी के लिए घर का मतलब उसका आठ बाई दस का कमरा था। एक बार उसके कमरे की खिड़की पर किसी ने दस रुपये का नोट पत्थर में लपेटकर फेंका था, जिस पर अंग्रेज़ी में लिखा हुआ था, तू मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट क्यूं नहीं एक्सेप्ट करती स्वीटी?’ ग़लती से दुनिया का ये सबसे छोटा प्रेमपत्र चिन्नी के बजाय बावा को लग गया था। बावा ने ये चिट्ठी टुन्नू से ही पढ़वाई थी और उस रोज़ पूरे मोहल्ले के जवान होते लड़कों को पानी पी-पीकर कोसा था।  चिन्नी इसके बाद आज पहली बार अपने कमरे से नीचे उतरी थी।
टुन्नू ने कहा, आप कमरे के बाहर क्यूं खड़ी हैं, भीतर आइए न। चिन्नी ने कहा, नहीं, पापा डांटेंगे। उन्होंने कहा है कि ज़्यादा चेंप नहीं होना किसी से। मैं कल आऊंगी। थोड़ी स्टडी करा देना। बारहवी के पेपर हैं। थैंकयू। आवाज़ में ज़रा भी सलीका नहीं था, मगर कल आने की बात टुन्नू को भीतर तक झकझोर गई। दिल्ली के बाहर से आकर बसे लड़कों के लिए इतने मीठे संवाद भर में प्यार हो जाना आम बात थी।
अगले दिन टुन्नू का कमरा देखने लायक था। सारे सामान सही जगह पर थे। चिन्नी ठीक सात बजे नीचे आई और दरवाज़े पर दस्तक दी। टुन्नू ने नज़र नीची कर इस डर से दरवाज़ा खोला कि कहीं आंटी भी साथ हों। चिन्नी अकेली थी। एक हाथ में किताबें थी और दूसरे में परौंठे। ऊपर से बावा की आवाज़ आई, ओए, टुन्नू, ज़रा देख ले इस चिन्नी को। इस बार पेपर ख़राब हुए तो तेरा बावा जान दे देगा।
टुन्नू ने फटाफट उसे घर के भीतर बिठाया। चाय बनाई और ख़ुद भी बैठ गया। पूछा, क्या पढ़ना है आपको। चिन्नी चुपचाप बैठी रही। टुन्नू की तरफ किताब आगे बढा दी। किताब ऐसी नई थी जैसे कभी पलटी ही नहीं गई हो। टुन्नू ने पहला चैप्टर खोला और पढ़ाने को हुआ। चिन्नी ने उसका हाथ पकड़ लिया और रोने लगी। टुन्नू ने दरवाज़े की तरफ देखा और उसे बंद देखकर तसल्ली की।
क्या हुआ आपको। सॉरी हम कुछ गलत तो नहीं बोले ना
चिन्नी बोली, आप एक लव लैटर लिख दोगे, इंग्लिश में..भैया।
टुन्नू को लगा उसके दिल पर जहां बीती शाम दस्तक हुई थी, वहीं किसी ने हथौड़ा मार दिया है। अपनी तमाम संभावनाओं को स्थगित करता हुआ उसने चिन्नी के लिए एक लव लेटर लिखा जो रजौरी गार्डन के किसी पंजाबी शोरूम मालिक को भेजा जाना था। चिन्नी को दो रातों के लिए शिमला भागना था मगर उसका प्रेमी कई दिन से फोन नहीं उठा रहा था। चिन्नी ने उसे अनुरोध किया कि ये लेटर वो ख़ुद ही रजौरी वाले शोरूम पर देता आए। बदले में उसने टुन्नू को तीन हज़ार रुपये भी दिए। टुन्नू ने अपनी हद तक इनकार किया, मगर चिन्नी की आंखें गीली होती देख उसने रुपये रख लिए।
अगले दिन बावा ने कोहराम मचाया हुआ था। बिहारियों के लिए तमाम तरीके की गालियों से बावा ने पूरा मोहल्ला गुंजायमान कर रखा था। चिन्नी अपने कमरे से गायब थी। सारा शक टुन्नू पर जा रहा था क्योंकि रात से उसके कमरे पर भी ताला लगा था। कमरा तोड़ने पर अंदर एक फोल्डिंग की खटिया और एक घड़ा ही बचे थे। कमरे की दीवार पर लिखा था तेरी बेटी चालू है।
बावा ने कसम ली कि अब चाहे प्रॉपर्टी डीलिंग से मिट्टी फांकनी पड़ जाए, बिहारियों को कमरे नहीं देगा।

निखिल आनंद गिरि
(ये कहानी वेबसाइट लल्लनटॉप और 'यथावत' मैगज़ीन में प्रकाशित है)