मंगलवार, 26 अप्रैल 2011

मां-बाप की उम्र और प्यार...

आठ महीने के बाद पहली बार नौकरी लगी थी। उसकी खुशी का ठिकाना नहीं था। बीएड का प्लान, सिविल सर्विस की तैयारी और पता नहीं किन-किन नौकरियों के सपने इन आठ महीनों में उसकी आंखों के सामने से गुज़र गए थे। जब नौ हज़ार रुपये की नौकरी लगी तो उसने घूम-घूम कर मिठाईयां बांटी और शाही ऐलान किया कि सबसे पहले नई चड्डियां ख़रीदेगा..

रात को सोते वक्त मोबाइल सिर के पास रखा होना परंपरा की तरह ज़रूरी था। अचानक फोन की घंटी बजती तो वो कितनी भी गहरी नींद में उठकर बातें करने लगते। हालांकि गहरी नींद बस एक आदर्श वाक्य की तरह थी जिसे पीढी दर पीढ़ी आगे सरका दिया जाता है मगर समझना या अमल करना कोई नहीं चाहता।

कुछ लड़कियों के बारे में पूरे शहर का एक ही ख़याल होता था। वो कब क्या हो जाएं, कोई नहीं जानता। उनसे बात करने से पहले ये देखना पड़ता है कि वो शादीशुदा हैं, किसी परिचित की प्रेमिका हैं या फिर अनजान चेहरा जहां संभावना बची हुई है। दोस्त की प्रेमिका से देर तक बात तो की जा सकती है, मगर कुंठाएं शालीनता के लिबास में हमेशा ओढ़े रहनी चाहिए।

ये मेरी निजी और शायद इकलौती राय होगी कि दोस्त को समझना लड़कियों को समझने से ज़्यादा मुश्किल है। वो देर तक लड़ते रहे कि पांच रुपये की झालमुड़ी के पैसे कौन देगा। एक का कहना था कि वो कमाता है इसीलिए उसे ही देना चाहिए। दूसरा कह रह था कि उसने झालमुड़ी ऑफर की है तो पैसे देने का हक़ उसका है। आधे घंटे की लड़ाई के बाद झालमुड़ी वाले ने कहा जाने दीजिए, मत दीजिए पैसे।

कुछ लोगों के बारे में राय बनाना बेहद मुश्किल होता है। वो इतने शातिर होते हैं कि आपके लाख चाहने पर भी शातिर नहीं लगते। उसके दोस्त उसे इतना प्यार करते थे कि जब उसका जन्मदिन होता तो आधी रात को इतनी तेज़ आवाज़ में गाने बजा देते कि मोहल्ले भर में लोग उन्हें गालियां बकते। उसकी प्रेमिका उससे इतना प्यार करती कि उसके मां-बाप उसे ज़िंदगी भर मरा हुआ मान बैठने पर आमादा हो जाते। हालांकि, वो अपनी प्रेमिका से इतना प्यार करता था कि इतना प्यार मां-बाप से किया होता तो उनकी उम्र पांच साल शर्तिया बढ जाती।

निखिल आनंद गिरि

शुक्रवार, 22 अप्रैल 2011

आखिरी यात्रा से पहले...

वो डिब्बों के साथ चलते हैं कुछ दूर तक,
कुछ शब्द और...
विदा से पहले..
कुछ प्यार और...
मुट्ठी भर किरणें सूरज की...

आंखों में अथाह अनुराग,
और लौटने की उम्मीद...
हाथ हाथ छूटने से ठीक पहले...
पलक भीगने से ठीक पहले,
गाड़ियों के शोर से ठीक पहले....

थोड़ी सी दही, थोड़ा-सा गुड़,
और थोड़ा-सा झुकना घुटनों तक,
बहुत-सा आशीष....

जो गए,
उस न लौटनेवाली दिशा में..
क्या पता आ भी जाएं एक बार...

भरोसा है बल खाती गाड़ियों पर,
वही लौटाएंगी एक दिन...
सारे बिछोह, सारे परिचित..
सारे प्रेम...
और बहुत-से सूरज...
आखिरी यात्रा से पहले....

निखिल आनंद गिरि

सोमवार, 18 अप्रैल 2011

एक शहर जहां प्रेम करना सबसे आसान था...

ऐतिहासिक और महान होने के गुमान में डूबे शहर की हैसियत बस इतनी थी कि बित्ते भर के ग्लोब में भी तिल भर ही जगह मिल सकी थी। इस शहर में जब कभी किसी को वक्त पर नींद आ जाती, पूरा शहर ताज्जुब में डूब जाता। हवाई जहाज से अगर शहर को कोई ग़रीब चित्रकार देखता तो उसे नदियां नालियां लगतीं और मकान शौचालय से भी छोटे। वो बजाय शहर को देखने के हवाई जहाज की खिड़की से नीले और उजले आसमान के बीच की इमेज बनाना बेहतर समझता क्योंकि वहां रंग भरने को काफी जगह थी।

इस शहर में कई मां-बाप चाहते थे कि उनके बच्चे इंजीनियर बनें, डॉक्टर बनें, वैज्ञानिक बन जाएं, मगर इतने अच्छे न बन जाएं कि प्रयोगशालाओं में उन्हीं पर रिसर्च शुरू हो जाए। हालांकि, मां-बाप अच्छे होने के लिए ही होते हैं मगर कुछ बेटे अपने मां-बाप को बेवकूफ भी समझते थे। इस शहर में पहले सर्कस लगता था मगर न तो अब शेर बचे थे और न ही वक्त कि सर्कस का मज़ा लोग ले पाते। हालांकि, शहर में तरह-तरह के आंदोलन होने लगे थे जो मन बहलाने के नए अड्डे थे। लोग नौकरी की शिफ्ट खत्म करने के बाद क्रांति करने निकल पड़ते थे। क्रांति एक ऐसी चमकीली और आसान चीज़ उन्हें लगती जैसे पार्कों में प्रसाद की तरह बंटने वाले चुंबन।

मेट्रो जब पूरे रफ्तार में होती तो शहर किसी फिल्म की तरह आगे बढ़ता जाता। शहर के कई हिस्से उसने यूं ही देखे थे। जहां ट्रेन रुकती, वहां खूब सारे लोग सवार हो जाते। वो उनकी टी-शर्ट पर लिखे नारे पढ़ता और शहर के बारे में राय बनाने लगता। उसे कभी-कभार ये भी लगता था कि टीशर्ट पहने हुए पूरा शहर किसी मोबाइल कंपनी की हुकूमत में जी रहा है। मेट्रो का सफ़र खत्म हो जाता, शहर के छोर खत्म हो जाते, मगर मोबाइल पर बातें ख़त्म नहीं होती थीं। इस शहर में सब लड़के एक जैसे स्मार्ट थे और सारी लड़कियां एक जैसी ख़ूबसूरत। ये प्रेमियों और प्रेमिकाओं के लिए बेहद आसान शहर था, जहां प्यार की कुछ ख़ास तारीखों को जवान लाशें मिलनी तय थीं।

इस शहर में उसकी प्रेमिका भी अजीब थीं। वो अपने कुर्ते के साथ दुपट्टा कभी नहीं लेती थी। उसे कभी लगा ही नहीं कि दुपट्टा उसकी प्रेम कहानी का विलेन भी बन सकता है। शहर ये समझता कि खुले विचारों वाली लड़की है, इसीलिए दुपट्टे के बगैर चलती है, मगर असल में वो इतनी डरपोक थी कि उसे लगता एक दिन इसी दुपट्टे का फंदा बनाकर मर जाना होगा। उसके लिए प्रेमिकाएं कनफेशन बॉक्स की तरह थी, जिनके सामने बस अपराध कबूले जा सके थे। बदले में ढेर सारी सांत्वना मिलती जिसे अंधेरे में प्रेम समझ लेना स्वाभाविक था।

निखिल आनंद गिरि

गुरुवार, 14 अप्रैल 2011

वक्त से जब वो भिड़ गया होगा...

गांव से दूर एक दरिया था,
गांव में प्यास बहुत थी लेकिन...
उनकी किस्मत में कोई पुल न हुआ।

वक्त क़ैद था मु्ट्ठी में जब,
चार फीट के दोस्त थे सब,
चार दिनों में शादी है अब !

अब तो रोना भी भूल बैठा हूं,
एक हंसी भी उधार ली मैंने
एक आदत सुधार ली मैंने ।

मेरी बस्ती में कौन आएगा,
हाल पूछेगा, चला जाएगा...
अजनबी अजनबी रह जाएगा...

पहले होती थी रुहानी बातें,
अबके क़ीमत में जिस्म सौंपा है...
आओ फिर से भरम का सौदा करें।

एक कमरे में ज़िंदगी काटी,
एक बित्ते में मौत आएगी...
ख्वाब क्यों आसमान भर देखें...

ये न पूछो कि क्या हुआ होगा,
ज़र्रा-ज़र्रा ही लुट गया होगा...
वक्त से जब वो भिड़ गया होगा ।

मेरी ख़ामोश हसरतों में रहे,
उम्र की सारी सिलवटों में रहे...
मर चुके ख़्वाब बड़े होते रहे ।

बंद कमरे में कोई वहशी था,
आईने का ही क़त्ल कर डाला...
लाल है रंग इस अंधेरे का ।

निखिल आनंद गिरि

सोमवार, 11 अप्रैल 2011

उन्हें सुबह उठना था कि मुर्गियों की गर्दन काट सकें...

एक छत के नीचे कई घरों के मर्द रहते थे। सिर्फ मर्द। औरतें उनके गांव रहा करती थीं और चादर के भीतर से रात को अपने मजदूर पतियों को मिस कॉल दिया करती थीं। पति उन्हें वादा करते कि इस बार वापस आकर उन्हें सोने के गहने ज़रूर देंगे। पत्नियां जानती थीं कि पति जब भी आएंगे सोने के गहने लाना भूल जाएंगे। फिर भी वो अपने पतियों पर गुस्सा करने के बजाय इंतज़ार ही करती थीं। रिमोट वाले टीवी पर जब परदेस की ख़बरें आतीं तो उनके चेहरे खिल जाते। उन्हें लगता टीवी में कभी न कभी उनके पति की तस्वीर भी ज़रूर दिख जाएगी। उन्हें लगता टीवी की आंखे बहुत महीन हैं और वो सब कुछ देखती हैं। उन्हें टीवी में कोई भगवान विश्वकर्मा नज़र आते थे। किसी ने विश्वकर्मा को देखा नहीं था मगर लोहे के सब सामानों का ज़िम्मा इन्हीं भगवान के भरोसे था। मर्दों को शादियां सोने के बैसाखी की तरह लगतीं जिसे टांग टूटने के बाद सहारे की तरह ही इस्तेमाल किया जा सकता है।
दातुन करने के वक्त उसे एक धुन याद आई। वो गुनगुनाने लगा। इस धुन को सुनकर उसका साथी रोने लगा। उसे अपने गांव की याद आ गई। वो पहली बार शहर आया था, इसीलिए उसके भीतर का गांव अभी मरा नहीं था। उसने बीए पास करने के बाद कई फॉर्म भरे मगर एडमिट कार्ड तक नहीं आय़ा। उसे लगा कि सरकारी नौकरियां सिर्फ खास लोगों की किस्मत में होती हैं और वो इस कैटेगरी में नहीं आता। उसे शादी भी करनी थी, मगर सरकारी नौकरी नही मिलने की वजह से शादी में भी दिलचस्पी खत्म होती जा रही थी। उसने रातों को छत पर चांद निहारना शुरू कर दिया था। हालांकि, उसे मालूम था कि चांद पर पहुंचना भी कुछ किस्मत वालों के हाथ में ही है।

अफसोस एक ऐसी सदाबहार चीज़ है कि हर सुबह चाय की तरह साथ देती है। उन मुर्गियों को देखकर भी अफसोस होता है जो कटने के लिए ही आंखे खोलती हैं। उन दुकानदारों को देखकर भी जो हर सुबह मुर्गियों की गर्दन काटने के लिए ही सुबह का इंतज़ार करते हैं। टीवी देखकर भी कम अफसोस नहीं होता। जो लोग कैमरे पर नज़र आते हैं, ज़रूरी नहीं कि सिर्फ उन्हीं की बात सुनी जाए। कोई एक शहर किसी एक जश्न में खुश है तो भी शहर के दुख खत्म नहीं हो जाते। पहली बार कोई इंसान कैमरे के आगे दुख भरा गाना गा रहा हो तो उस आदमी का भी शुक्रिया अदा करना चाहिए जो कैमरे के पीछे खड़ी भीड़ को तालियां बजाने के लिए उकसा रहा है। उन्हें हर हाल में कैमरे पर अच्छा-अच्छा देखने की आदत पड़ी हुई है। साफ-सुथरे चेहरे और ताली बजाने वाले हाथ।

निखिल आनंद गिरि

गुरुवार, 7 अप्रैल 2011

अन्ना का आंदोलन और साइड इफेक्ट्स...

वो बहुत दिनों से पब्लिसिटी के भूखे थे। दिल्ली के एक होटल में कमरा बुक कराकर रहते थे कि किसी एक दिन पार्टी का टिकट मिल जाए तो मशहूर हो जाएं। अन्ना ने दिल्ली आकर आंदोलन शुरू कर दिया तो उन्हें लगा कि उम्र भर की साध पूरी हो गई। इस एक आंदोलन में कूदने का मतलब उम्र भर की टीआरपी मुफ्त में मिल जानी थी। फिर क्या था, अन्ना अन्ना करते जा कूदे भीड़ में। मीडिया पहले से थी ही, तो कैमरे के आगे भी अन्ना अन्ना शुरू कर दिया। गलत-सलत उच्चारण के साथ एकाध कविताएं भी सुना डालीं। मीडिया को ऐसी कविताएं बहुत पसंद थीं, उन्होंने कवि महोदय को हाथों हाथ लिया और लगे हाथ स्टूडियो बुला लिया। अन्ना पड़े हैं आमरण अनशन पर। जिन्हें पब्लिसिटी चाहिए, उन्हें स्टूडियो मिल रहे हैं। एसी में पीने का पानी और खाने को स्नैक्स भी उपलब्ध हैं। किरण बेदी तो तीन बार कपड़े बदल चुकी हैं और आमरण अनशन में शामिल होकर इतनी खुश हैं कि पूछिए मत। मीडिया ज़िंदाबाद का नारा भी लगा चुकी हैं।


हमारी कॉलोनी में एक मजबूर पतिदेव रहते हैं। शिफ्ट खत्म करने के बाद वो घर लौटे तो पत्नी बिफर पड़ीं। पति महोदय को याद आया कि अरे, आज तो चिड़ियाघर ले जाना था बच्चों को। सॉरी सॉरी कहते रहे मगर पत्नी मानने को तैयार ही नहीं। अचानक टीवी पर जंतर मंतर की तस्वीरें दिखीं कि कोई बूढा आदमी अनशन पर है और वहां फिल्म से लेकर मीडिया की बड़ी बड़ी हस्तियां उपलब्ध हैं। पति ने फटाफट मुंह धोया और बच्चों को तैयार हो जाने का आदेश दिया। पत्नी को लगा कि पतिदेव का माथा खिसक गया है, मगर फिर भी तैयार हो ही गईं। बच्चों ने पूछा कि कहां जा रहे हैं तो पति ने कहा जंतर मंतर। बच्चे खुश हुए मगर पत्नी ने पूछा वहां क्यों। पतिदेव ने गियर तेज़ करते हुए कहा कि कोई अन्ना हैं वहां जिनको मरता हुआ देखने के लिए सब जा रहे हैं। थोड़ी देर रुकने पर मीडिया कवरेज के लिए पहुंच जाती है। बच्चों को ये सब समझ नहीं आया मगर कैमरे पर आने का सुख सोचकर वो चुप रह गए। पत्नी ने भी टाइमपास के लिए आंदोलन का हिस्सा बनना बुरा नहीं समझा। वो बहुत दिनों से चिड़ियाघर भी नहीं गई थी।

इधर फेसबुक पर वर्ल्ड कप के फाइनल की तस्वीरें अब तक टीआरपी बनाए हुए थीं। देशभक्ति के स्लोगन और पाकिस्तान-श्रीलंका को गालियां देकर एक से बढ़कर एक हिंदुस्तानी महान बनने की जुगत में थे। अचानक मुंबई से फेसबुक का ध्यान दिल्ली की ओर शिफ्ट हो गया। कोई अन्ना थे जो भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन में मरने को तैयार थे। देश में भूख से मरने वालों की रिपोर्ट कई दिनों से टीवी पर चली नहीं थी, मगर अन्ना ने उन्हें सद्बुद्धि दी थी। फेसबुक पर फिर से देशभक्ति का बाज़ार गर्म है। अन्ना पर स्टेटस अपडेट करना फैशन है। हर कोई बहती गंगा में हाथ धोना चाहता है। कुछ न कुछ लाइफ में होते रहना चाहिए। साले एफएम वाले बोर करते हैं अब। एक ही जैसे चुटकुले सुनकर ज़िंदगी भर हंसा तो नहीं जा सकता। टीवी पर बड़े बड़े फांट में अखबार पढ़पढ़कर आंखे बाहर होने लगी हैं। दिल्ली को कुछ नया चाहिए। रंग दे बसंती टाइप। तो अन्ना हैं ना। अंग्रेज़ी में कहें तो ऑसम (AWESOME) माहौल है जंतर-मंतर पर। मनमोहन सरकार का इससे कुछ उखड़ेगा या नहीं, ये कहना जल्दबाज़ी होगी, मगर दिल्ली के लिए अन्ना किसी सुड या लव गुरू से ज़्यादा बेहतर टाइमपास हैं। कम से कम वहां जाने पर लगता है कि कुछ किया है। गर्लफ्रेंड के साथ वहीं बैठ लिए थोड़ी देर तो इंप्रेशन भी अच्छा जमता है। फेसबुक पर अपील हो रही है कि अन्ना के लिए चले आइए। उस एक नेक बूढे आदमी के लिए चले आइए। प्लीज़ चले आइए। क्योंकि एक अन्ना मरे तो हज़ार अन्ना पैदा नहीं होने वाले। कम से कम दिल्ली में स्वार्थ की गुटबाज़ी के सिवा कोई जमात नहीं बनती, इतना तो सबको पता है। मुझे भी...

निखिल आनंद गिरि