शुक्रवार, 2 दिसंबर 2011

दिल्ली एक उलझन है, एक वेटिंग रूम है...

मुझे कई बार लगता है कि मैं किसी दिल्ली-विल्ली में नहीं रहता। मैंने आज तक लालकिला नहीं देखा, कुतुबमीनार नहीं घूमा और न ही ट्रेड फेयर में टिकट कटाकर घूमने गया हूं। मैं तो सिर्फ दो-तीन घंटे रोज़ाना मेट्रो में रहता हूं, फिर एक दफ्तर में और फिर अपने कमरे में। बाकी कब, क्या, कौन-सी दिल्ली में होता है, मुझे नहीं पता। टीवी पर आग-वाग दिखती है तो हम दिल्ली के दफ्तर में ही बैठकर एक-दूसरे से पूछते हैं कि ये कहां का सीन है। तो कोई कहता है दिल्ली का है। आज दिल्ली बंद है ना, भारत भी बंद है आज ! मैं शर्मिंदा होता हूं और खुश भी कि मेरे रास्ते में ये दिल्ली नहीं आती। मेरे रास्ते में तो एक हवाई दिल्ली आती है। ज़मीन पर पांव रखूं तो सीढ़ियां आती हैं और फिर आधे आकाश में सफर कर सीधा रिक्शे वाले के पास जा पहुंचता हूं जो शर्तिया दिल्ली का नहीं होता।  ये दिल्ली रहती किधर है भाई, मुझे इस दिल्ली से मिला दो कोई।

एक बार घर में बैठे तो बिहार से पापा का फोन आया कि ठीक तो हो। मैंने कहा, हां....आप ही ठीक नहीं लग रहे। तो बोले, टीवी पर दिखा रहा है कि दिल्ली में ब्लास्ट हो गया है। फिर मैंने दिल्ली के अपने कमरे में इंटरनेट पर देखा तो पता चला सचमुच दिल्ली में ब्लास्ट हो गया है। फिर मैंने पापा से कहा कि पापा दिल्ली बहुत बड़ी है और जहां ब्लास्ट हुआ है, वो दिल्ली तो मुझसे बहुत दूर है।
पापा खुश हुए और बोले अच्छा है उस दिल्ली से दूर ही रहो।

हालांकि, मैं जिस दिल्ली के करीब हूं, उसे देखकर भी पापा खुश होंगे, कहना मुश्किल है। हवाई चप्पल में ही सवेरे-सवेरे उठकर सबसे सस्ती फिल्म देखने का जुगाड़ दिल्ली ने ही सिखाया।  क्या ज़रूरी है कि रॉकस्टार देखने के लिए आप वीकेंड की किसी गोधूलि वेला में किसी के साथ का इंतज़ार करें। क्यों न ब्रह्म मुहूर्त में उठें (दिल्ली में ब्रह्म मुहूर्त 7-8 बजे को मान सकते हैं) और चल पड़े पास के मॉलनुमा मंदिर में दर्शन करने नरगिस फाख़री का। या फिर साहिब, बीवी और गैंगस्टर वाली माही गिल का।  40-50 रुपये में प्यार, ज़िंदगी का तमाम दर्शन जिन गद्दीदार कुर्सियों पर मिलता है, मेरी दिल्ली वहीं है। जहां मैं ख़ुद को कभी रॉकस्टार तो कभी दबंग समझने लगता हूं। अगर प्यार उलझन के अलावा कुछ नहीं है तो हिंदुस्तान का हर प्रेमी एक  'रॉकस्टार' है।

एक वक्त और पक्के तौर पर लगता है कि हम दिल्ली में ही हैं। जब छुट्टियों के मौके पर तीन महीने पहले भी घर जाने को सारे टिकट फुल हो जाते हैं और ज़िंदगी अटक-सी गई लगती है। तब लगता है दिल्ली एक वेटिंग रूम है जहां हर किसी को यहां से बाहर जाने का इंतज़ार है।

''जब हम बड़े होते हैं,
हमारे साथ बड़ी होती है उम्र...
और धुंधली होती है याद..
बीत चुके उम्र की...
हमारे साथ बड़ा होता है खालीपन....
छूट चुके रिश्तों का...
और बड़ा होता है खारापन,
आंसूओं का...
चुप्पियां बड़ी होती हैं,
और उनमें छिपा दर्द भी..
ये तमाम शहर बड़े होते हैं हमारे साथ...
हमारे-तुम्हारे शहर...
शहरों की दूरियां घटती हैं,
रिश्तों की नहीं घटती...''
निखिल आनंद गिरि

8 टिप्‍पणियां:

निर्मला कपिला ने कहा…

जीवन परिवरतन तो चाहता ही है जहाँ भी रहो कुछ दिन बाद ऐसे ही लगता है।वेटिन्ग रूम ही सही मगर चैन इसी वेटिन्ग रूम मे मिलता है। शुभकामनायें।

Sonal Rastogi ने कहा…

sach mein hamari apni dilli hai har kisi ki judaa dilli

सागर ने कहा…

साहिब, बीवी और गैंगस्टर ki vidya balaan nahi Maahi Gill

निखिल आनन्द गिरि ने कहा…

शुक्रिया सागर जी...मुझे तो सभी ख़बसूरत शक्लें एक जैसी लगती हैं...दिमाग में ''ऊ..लाला..'' चल रहा था और दिल में माही गिल..ग़लती सुधार ली गई है...

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

..बढ़िया।

यही होता है। महानगरों में आम आदमी डिब्बों में बंद रहता है। एक से निकला तो दूसरे में बंद। खुशकिस्मत हुआ तो आकाश नेट से देख लेता है। रिश्ते मेल से सहेज लेता है। बाबूजी को देख लेता है कम्प्यूटर में।
इन सारी व्यस्तताओं के बाद भी घूमना चाहिए। जब कभी छुट्टी मिले लाल किला भी देखिए, कुतुबमीनार भी। भले ही न लिख पाएं कोई कविता लेकिन अपने आस पास को देखना और महसूस करना चाहिए।

आलोक "साहिल" ने कहा…

हम्म्म्म्...

Shikha ने कहा…

Kuch aisa hi mumbai v hai.. beautiful words... gives a real picture

Rashmi Savita ने कहा…

तब लगता है दिल्ली एक वेटिंग रूम है जहां हर किसी को यहां से बाहर जाने का इंतज़ार है।
dilli me rahne ka aapko pata bhale na chahta ho...par dilli ko bakhobi samajhte hain aap.