शुक्रवार, 30 सितंबर 2011

परछाईयों से प्यार और आखिरी सांस

मां से कभी कोई ऐसी चीज़ मांगी है आपने जो पूरी ही न का जा सके। दरअसल, ऐसा कुछ है ही नहीं जो मां के लिए मुमकिन नहीं। मासूम बच्चे का भरोसा कुछ ऐसा ही होता है। वो रात में सूरज और दिन में चांद मांग सकता है और मां उसकी आंखें बंदकर हथेली सहला दे तो लगता है सचमुच चांद ही होगा। हालांकि, आप भी जानते हैं कि ऐसा कुछ होता नहीं है। मां भी जानती है, मगर मासूम बच्चा नहीं जानता। जानता भी हो शायद मगर ऐसा मानना उसकी ज़िंद ने उसे सिखलाया नहीं है । प्यार में कोई तर्क नहीं काम करता कि आप क्या मांगते हैं और क्या चाहते हैं।

परछाईयों से प्यार किया है आपने। कितना क़रीब लगती हैं ना । जैसे बस हाथ बढ़ाया और छू लिया। मैंने एक बार हाथ बढ़ाकर सचमुच देखना चाहा तो फिर कोशिश ही करता रहा । फिर वो अचानक ग़ायब हो गई और फिर कभी नहीं लौटी। परछाईयों को दरअसल ये बिल्कुल पसंद नहीं कि कोई उन्हें छुए । वो सुबह की धूप में आपके साथ होने का भरम पैदा करती हैं और अंधेरे से पहले ही सच सामने होता है। अगर ये मान भी लें कि परछाई आपको खुशी देना चाहती है तो क्या ये सच झुठलाया जा सकता है कि आप और आपकी परछाई दो अलग-अलग ज़िंदगियां हैं, दो सीधी रेखाओं की तरह, जो हमेशा साथ-साथ तो हैं, मगर कभी मिल नहीं सकते।

उसके आंगन में दुख का पौधा इतना बड़ा हो गया था कि उसके फल खाकर ताउम्र गुज़ारा किया जा सकता था। एक बार सुख ने उसके दरवाज़े पर दस्तक दी तो वो पहली नज़र में उसे पहचान ही नहीं पाया। । उसका चेहरा तो वही था मगर उम्र की धूल और दुख के घने साए में वो सब कुछ भूल बैठा था। सुख घड़ी भर को आया था मगर उसे लगा कि कहीं रह जाए । कहीं रुक जाए । दोनों अंदर आए, एक-दूसरे का हाथ पकड़े। दुख वाले पौधे के नीचे दोनों घंटों बैठे रहे। हालांकि, उन्होंने ज़्यादा बात नहीं की मगर सिर्फ बात करना ही बात करना नहीं होता।। कई बार जिस्म के रोएं भी बात करते हैं। आंखों की पुतलियां भी बात करती हैं। अहसास बात करते हैं। और वो बात साफ सुनी जा सकती थी। जाने का वक्त हुआ तो सुख की आंखें नम हो गईं। उसने अपनी हथेली में दो-चार बूंद आंसू भरे और दुख की जड़ में गिरा दीं। उसने देखा कि जड़ों में लिपटा कोई बहुत पुराना रिश्ता आखिरी सांसें गिन रहा है। चार बूंदों से उसे जी जाना चाहिए था मगर उसने आखिरी करवट ली और फिर हमेशा के लिए ख़ामोश हो गया।

निखिल आनंद गिरि

4 टिप्‍पणियां:

अखिलेन्‍द्र प्रताप यादव ने कहा…

प्यार में कोई तर्क नहीं काम करता कि आप क्या मांगते हैं और क्या चाहते हैं।
सिर्फ बात करना ही बात करना नहीं होता।। कई बार जिस्म के रोएं भी बात करते हैं। आंखों की पुतलियां भी बात करती हैं। अहसास बात करते हैं।

खुबसूरत अभिव्‍यक्‍ति..।।

kanu..... ने कहा…

उसके आंगन में दुख का पौधा इतना बड़ा हो गया था कि उसके फल खाकर ताउम्र गुज़ारा किया जा सकता था। एक बार सुख ने उसके दरवाज़े पर दस्तक दी तो वो पहली नज़र में उसे पहचान ही नहीं पाया।
sach hai kabhi kabhi apne dukhon aur ansuon se bhi mohhabt ho jati hai.sundar rachna

कमरुद्दीन खान ने कहा…

निखिल साब अल्फाजों को कैसे कब और कहाँ रखना है ये कोई आपसे सीखे...बिलकुल सरल और माँ जितनी समझदार है आपकी लेखनी...बहुत खूबसूरत

Paru Singh ने कहा…

You expressed ur story in a very simplified and expressive manner... after reading it, it felt lik somethin very much linked to our dark side of lives, u used maa and parchae together I m unable to link them...mujhe samajh nae aya k in dono ko apne saath mein kyun use kiya..