बुधवार, 29 जून 2011

चांद एक शहर और खरीदा हुआ पानी...

वो बहुत दुखी था....कहने लगा, पूरी जवानी खराब कर दी...ये नहीं पता था कि क्या करना है, लेकिन फिर भी बड़ा आदमी बनने का मन था। ट्यूशन के वक्त मैंने लाइन नहीं मारा..कितना सैक्रीफाइस किया है...मेरा भी मन था कि फिल्म देखें, गोवा घूमे...वगैरह वगैरह...। मुझे इतना सुनकर हंसी आ गई। लेकिन उसका कहना जारी रहा - क्या बताएं आपको। मेरे बाप ने मुझे समझा ही नहीं। पढ़ाते थे फटीचर स्कूल में और सोचते थे कि शहर वाले भाईयों से टक्कर ले लूंगा। एक बार शहर वाले भाई छुट्टियों में गांव आए तो उनके सामने बड़ा ज़लील किया मुझे। एबीसीडी नहीं आती थी तो शहरी स्कूल वाले भाई से पिटवाते थे पापा...ज़िंदगी भर नहीं भूला..। मुझे उस पर तरस आने के बजाय हंसी आती रही।


उसकी आमदनी इतनी थी कि वो ज़िंदगी भर रोज़ ब्लैक में टिकट ख़रीदकर एक ऊबाऊ फिल्म देख सकता था या फिर किसी बूढ़े मजबूर आदमी की कहानी सुनकर उसे रोज़ प्यार से महंगे फल खिला सकता था, मगर फिर भी रिक्शेवाले से पांच रुपये के लिए झगड़ना उसकी आदतन मजबूरी थी। शायद इसे ही सामाजिक भाषा में संस्कार कहते हैं जिनसे पीछा छुड़ाने के लिए मज़बूत दिल का होना ज़रूरी है।

उसे आज़ादी इतनी पसंद थी कि वो रोज़ सपने में अपना ही घर जला दिया करता और फिर भी उसे अफसोस नहीं होता। चूंकि उसे बच्चे बहुत प्यारे थे इसीलिए तो सपने में कितनी भी भीड़ होती, एक बच्चा उसकी उंगली पकड़कर ज़रूर चल रहा होता। वो उस बच्चे के साथ नदी के पानी पर चलता हुआ चांद के किस्से सुनाना पसंद करता था। बच्चे को लगता कि चांद एक शहर जैसा है जहां एक दिन वो नौकरी करने ज़रूर जाएगा और खरीद कर पानी पियेगा।

उसे उधार देकर भूल जाने की आदत थी इसीलिए उसके दोस्तों की तादाद उसके दुश्मनों से क़हीं ज़्यादा थी। इधर कुछ लोग मेरे साथी कहे जाते थे। वो क्रांतिकारी और प्रगतिशील कहलाना पसंद करते थे। वो मेरे पैसे कमाने का इंतज़ार कर रहे था ताकि उनकी क्रांति का खर्च निकल सके। चूंकि क्रांति इस देश के संस्कारों में रही है, इसीलिए इसके मौजूदा स्वरूप पर बहस फालतू ही कही जाएगी। ठीक वैसे ही जैसे अगर आप इस पर बहस करें कि प्रेम विवाह और जुगाड़ (अरेंज) विवाह में बेहतर कौन है।

मेरा तो अब तक ये मानना है कि इस बहस से ज़्यादा फालतू प्रेम और विवाह ही हैं। जिस देश में घोटाले न होते हों, वहां शोध कराकर देख लें, ये बात सौ फीसदी सच निकलेगी कि भारत देश की अर्थव्यवस्था का सबसे ज़्यादा नुकसान प्यार और शादियों ने ही किया है। फिर भी हम हैं कि इसे समाज का आखिरी सच मानकर प्यार और शादियां किए जाते हैं।

हालांकि, संस्कारों के दायरे में ये बात सच मान लेने में ही भलाई है कि प्रेमिकाएं अगर जवानी का सहारा होती हैं, तो बुढ़ापे का सहारा पत्नी। संस्कार ये भी है कि हम घुटकर मर जाएं मगर शादी ज़रूर करें।

निखिल आनंद गिरि

3 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

शादी से इतनी नफ़रत अच्छी बात नहीं। क्योंकि “बुढ़ापे का सहारा पत्नी”। और हमें बुढ़ा तो होना ही है।

स्वप्निल कुमार 'आतिश' ने कहा…

जुगाड़ विवाह....अरेंज मैरिज के लिए धाकड शब्द धुंध लाये हैं आप...

बच्चे भी होशियार हो गए हैं.... उनके लिए चाँद पे बैठी बुढिया किसी एम् एन सी की मालकिन सरीखी हो गयी है जो उन्हें नौकरी देगी..

दीपक बाबा ने कहा…

@संस्कार ये भी है कि हम घुटकर मर जाएं मगर शादी ज़रूर करें।

गए साहेब वो जमाने गए......
अब घुट कर जीने के दिन हैं.