मंगलवार, 25 जनवरी 2011

एक ख़ास पल...


एक देश है जो हर साल,

२६ जनवरी को फहराता है तिरंगा...

जहाँ लोग बेसब्री से इंतज़ार करते हैं,

विश्व कप जीतने का...

जहाँ लोग इंतज़ार करते हैं,

कि कब लाल बत्ती बुझे,

और ज़िंदगी की दौड़ में वो भाग सकें

तेज़ "सबसे तेज़".....


इंतजार है एक सुपरहीरो का,

जो हर वो काम कर सके,

जिसे नहीं कर पाता आम आदमी..


आम आदमी रो नहीं सकता देर तक,

नहीं कर सकता खुल कर प्यार,

अपनी नाराज़ प्रेमिका से....


एक देश है जिसकी आधी आबादी,

डुबोती है पावरोटी चाय में,

और अभिनय करती है खुश होने का....

सड़क के किनारे फटी हुई चादर में,

माँ छिपाती है अपना बच्चा,

पिलाती है दूध.....


एक देश है जहाँ,

रंगीन पानी पीकर

लोग बन जाते हैं मर्द.....

और नही समझ पाता कोई,

तीन कोस पैदल चलकर,

पानी लाने का दर्द....


एक देश जहाँ

शौचालयों से वाचनालयों तक

व्यर्थ ही होती दिखी है ऊर्जा...


जहाँ तिरंगे में लिपटकर,

देश का सपूत सो जाता है....

और उसकी मौत पर,

पेट्रोल पम्प के टेंडर का खेल,

शुरू हो जाता है....


एक देश जहाँ २६ साल की है...

देश की आधी आबादी,

पहनती है ब्रांडेड जींस,

और बोलती है खादी...


एक देश,

जहाँ कैलेंडर की तारीखों में,

मनाये जाते हैं ख़ास दिन,

और देश का आम आदमी,

ज़िंदगी में ढूँढता रह जाता है,

एक ख़ास पल,

कि वो कर सके प्यार

अपनी नाराज़ प्रेमिका से,

बहुत देर तक....

कि वो खुल कर रो सके,

बहुत देर तक.....

 
निखिल आनंद गिरि

1 टिप्पणी:

akhilendra ने कहा…

yahi wo ashlil kavita hai na...jisko youvani ki kisi udghoshika ne nakara tha....
एक देश है जहाँ,

रंगीन पानी पीकर

लोग बन जाते हैं मर्द.....

और नही समझ पाता कोई,

तीन कोस पैदल चलकर,

पानी लाने का दर्द....

ye line achhi lagi....