मंगलवार, 28 सितंबर 2010

मैं ज़िंदा हूं अभी...

मुझे टटोलिए,
हिलाइए-डुलाइए,
झकझोरिए ज़रा...
लगता है कि मैं ज़िंदा हूं अभी...

चुप्पी मौत नहीं है,
चीख नहीं है जीवन,
मैं अंधेरे में चुप हूं ज़रा,
भूला नहीं हूं उजाला...
ये शहर कुछ भी भूलने नहीं देगा...

नौ घंटे की बेबसी,
दुम हिलाने की....
फिर चेहरा उतारकर
गुज़ारते रहिए घंटे...

फोन पर मिमियाते रहिए प्रेमिका से,
उसे हर वाक्य के खत्म होते खुश होना है...
मां से बतियाने में ओढ लीजिए हंसी,
कितनी भी...
पकड़े जाएंगे दुख...

कुछ चेहरे हैं
जिनसे बरतनी है सावधानी...
कुछ नज़रें हैं..
जिन्हें पलट कर घूरना नहीं है..
दिन एक थके-मांदे आदमी की तरह है..
हांफ रहा है आपके साथ..
रात के आखिरी पहर तक...
बिस्तर पर लेटकर निहारते रहिए दीवारें..
क्या पता शून्य का आविष्कार,
इन्हीं क्षणों में हुआ हो..

26 साल की बेबस  उम्र
नींद की गोली पर टिकी है...
गटक जाइए गोली,
विश्राम लेंगे दुख...
बदलते रहिए केंचुल,
शर्त है जीने की...

निखिल आनंद गिरि

रविवार, 26 सितंबर 2010

रौशनी ने कर दिया था बदगुमां...

आईने  ने जब से ठुकराया मुझे,
हर कोई पुतला नज़र आया मुझे...

रौशनी ने कर दिया था बदगुमां,
शाम तक सूरज ने भरमाया मुझे...

ऊबती सुबहों का सच मालूम था,
रात भर ख्वाबों ने बहलाया मुझे....

मैं बुरा था जब तलक ज़िंदा रहा,
'अच्छा था', ये कहके दफनाया मुझे...

जब शहर के शोर ने पागल किया,
एक भोला गांव याद आया मुझे....

ख्वाब टूटे, एक टुकड़ा चुभ गया,
देर तक नज़्मों ने सहलाया मुझे....

निखिल आनंद गिरि

शुक्रवार, 24 सितंबर 2010

ये चांद ऊंघने लगे हैं..

आओ फूट कर रो लें,
ये धुंधला वक्त धो लें,
बहुत ही खुशनुमा-सी सुबह है,
ज़रा-सा ग़मज़दा हो ले

चिकोटी काट लें, छेड़ें किसी को,
बना लें दोस्त फिर से ज़िंदगी को,
किसी अनजान रस्ते पर चलें,
भटकें, गुमशुदा हो लें

बहुत हैं प्यार के शोशे,
वहीं बोरिंग छुअन-बोसे,
जुगलबंदी दो जिस्मों की,
सांसों की गिरह खोलें...

समंदर पी गए कब के,
बुझे शोले कहां लब के,
उलट दें सब नदी-दरिया,
फिर से बुलबुला हो लें...

ये दस्तक, फिर खुशी है !
इधर बस बेबसी है....
बुला लो, दो घड़ी भर
हंसे, बतियाएं, बोलें....

बहुत से रतजगे-हैं,
ये चांद ऊंघने लगे हैं....
ज़रा-सी मौत दे दो,
हम भी नींद सो लें...

निखिल आनंद गिरि