सोमवार, 28 मई 2007

बहुत ही सोच समझकर दुआ सलाम करो.........

एक
वो अक्सर फूल परियों की तरह सजकर निकलती
आँखों में इक दरिया का जल भरकर निकलती है
कँटीली झाड़ियाँ उग आती हैं लोगों के चेहरों पर
ख़ुदा जाने वो कैसे भीड़ से बचकर निकलती है
बदलकर शक्ल हर सूरत उसे रावण ही मिलते हैं
कोई सीता जब लक्ष्मण रेखा से बाहर निकलती है
सफ़र में तुम उसे ख़ामोश गुड़िया मत समझ लेना
ज़माने को झुकी नज़रों से वो पढ़कर निकलती है
ज़माने भर से इज़्ज़त की उसे उम्मीद क्या होगी
ख़ुद अपने घर से वो लड़की बहुत डरकर निकलती है
जो बचपन में घरों की ज़द हिरण सी लाँघ आती थी
वो घर से पूछकर हर रोज़ अब दफ़्तर निकलती है
ख़ुद जिसकी कोख़ में ईश्वर भी पलकर जन्म लेता है
वही लड़की ख़ुद अपनी कोख़ से मरकर निकलती है
छुपा लेती है सब आँचल में रंज़ो-ग़म के अफ़साने
कोई भी रंग हो मौसम का वो हँसकर निकलती है
******
दो
कहीं भी सुब्ह करो या कहीं पे शाम करो
बहुत ही सोच समझकर दुआ सलाम करो
हमारे दौर के सूरज में रोशनी ही नहीं
अब एक और भी सूरज का इंतज़ाम करो
चमन में फूल खिला दे समय पे जल बरसे
इसी मिज़ाज के मौसम का एहतराम करो
गवाह बिकते हैं डरते हैं क्या सज़ा होगी
तमाम ज़ुर्म सरेआम सरेशाम करो
******
तीन

समस्याओं का रोना है क्यों उनका हल नहीं होता
हमारे बाज़ुओं में अब तनिक भी बल नहीं होता
समय के पंक में उलझी है फिर गंगा भगीरथ की
सुना है उज्जैन की क्षिप्रा में भी अब जल नहीं होता
सहन में बोन्साई हैं, न साया है, न ख़ुश्बू है
परिंदे किस तरह आएँगे इसमें फल नहीं होता
नशे में तुम जिसे संगीत का सरगम समझते हो
शहर के शोर में वंशी नहीं, मादल नहीं होता
प्रतीक्षा में तुम्हारी हम समय पर आके तो देखो
जो ज़ज़्बा आज दिल में है वो शायद कल नहीं होता
सफ़र में हम भी तनहा हैं सफ़र में तुम भी तनहा हो
किसी भी मोड़ पर अब ख़ूबसूरत पल नहीं होता
जिसे तुम देखकर ख़ुश हो मरुस्थल की फ़िज़ाओं में
ये उजले रंग के बादल हैं इनमें जल नहीं होता
************************

जयकृष्ण राय तुषार63 जी/7, बेली कॉलोनीस्टैनली रोड, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश

2 टिप्‍पणियां:

Priya ने कहा…

ek shabd "bemisaal"

शारदा अरोरा ने कहा…

बहुत सुन्दर लिखा है ,
सहन में बोन्साई हैं, न साया है, न ख़ुश्बू है
परिंदे किस तरह आएँगे इसमें फल नहीं होता
सच में , कविता किस गहराई तक ले जाती है .
अजनबी कौन हो तुम , मैं किस तरह आपके ब्लॉग तक पहुँच गई हूँ ...खैर पढ़ कर अच्छा सा लगा .