मंगलवार, 27 फ़रवरी 2007

वो मौत माँगता हो, मगर मौत भी न हो.....................

न जाने चाँद पूनम का, ये क्या जादू चलाता है,
कि पागल हो रही लहरें, समुंदर कसमसाता है.
हमारी हर कहानी में, तुम्हारा नाम आता है.
ये सबको कैसे समझाएँ कि तुमसे कैसा नाता है.
ज़रा सी परवरिश भी चाहिए, हर एक रिश्ते को,
अगर सींचा नहीं जाए तो पौधा सूख जाता है.
ये मेरे ग़म के बीच में क़िस्सा है बरसों से
मै उसको आज़माता हूँ, वो मुझको आज़माता है.
जिसे चींटी से लेकर चाँद सूरज सब सिखाया था,
वही बेटा बड़ा होकर, सबक़ मुझको पढ़ाता है.
नहीं है बेइमानी गर ये बादल की तो फिर क्या है,
मरूस्थल छोड़कर, जाने कहाँ पानी गिराता है.
पता अनजान के किरदार का भी पल में चलता है,
कि लहजा गुफ्तगू का भेद सारे खोल जाता है.
ख़ुदा का खेल ये अब तक नहीं समझे कि वो हमको
बनाकर क्यों मिटाता है, मिटाकर क्यूँ बनाता है.
वो बरसों बाद आकर कह गया फिर जल्दी आने को
पता माँ-बाप को भी है, वो कितनी जल्दी आता है.
*******************************************

खिड़कियाँ, सिर्फ़, न कमरों के दरमियां रखना
अपने ज़ेहनों में भी, थोड़ी सी खिड़कियाँ रखना
पुराने वक़्तों की मीठी कहानियों के लिए
कुछ, बुजुर्गों की भी, घर पे निशानियाँ रखना
ज़ियादा ख़ुशियाँ भी मगरूर बना सकती हैं
साथ ख़ुशियों के ज़रा सी उदासियाँ रखना.
बहुत मिठाई में कीड़ों का डर भी रहता है
फ़ासला थोड़ा सा रिश्तों के दरमियां रखना
अजीब शौक़ है जो क़त्ल से भी बदतर है
तुम किताबों में दबाकर न तितलियाँ रखना
बादलो, पानी ही प्यासों के लिए रखना तुम
तुम न लोगों को डराने को बिजलियाँ रखना
बोलो मीठा ही मगर, वक़्त ज़रूरत के लिए
अपने इस लहजे में थोड़ी सी तल्ख़ियाँ रखना
मशविरा है, ये, शहीदों का नौजवानों को
देश के वास्ते अपनी जवानियाँ रखना
ये सियासत की ज़रूरत है कुर्सियों के लिए
हरेक शहर में कुछ गंदी बस्तियाँ रखना
*******************************************

इतनी किसी की ज़िंदगी ग़म से भरी न हो.
वो मौत माँगता हो, मगर मौत भी न हो.
ख़ंजर के बदले फूल लिए आज वो मिला,
डरता हूँ कहीं चाल ये उसकी नई न हो.
बच्चों को मुफ़लिसी में, ज़हर माँ ने दे दिया,
अख़बार में अब ऐसी ख़बर फिर छपी न हो.
ऐसी शमा जलाने का क्या फ़ायदा मिला
जो जल रही हो और कहीं रोशनी न हो.
हर पल, ये सोच-सोच के नेकी किए रहो,
जो साँस ले रहो हो, कहीं आख़िरी न हो.
क्यूँ ज़िंदगी को ग़र्क़ किए हो जुनून में
रख्खो जुनून उतना कि वो खुदकुशी न हो.
ऐसे में क्या समुद्र के तट का मज़ा रहा,
हो रात, साथ वो हों, मगर चाँदनी न हो.
एहसास जो मरते गए, दुनिया में यूँ न हो,
दो पाँव के सब जानवर हों, आदमी न हो.
इस बार जब भी धरती पे आना ऐ कृष्ण जी,
दो चक्र ले के आना, भले बांसुरी न हो.

लक्ष्मीशंकर वाजपेयी

1 टिप्पणी:

Bikas Mishra ने कहा…

काफी अच्छा दोस्त, अभी तो बस एक नजर डाली है. शुरुआत काफी अच्छी है...लगे रहो...मेरी शुभकामनाएं...